बस्ती : प्रवासी कामगारों को रोजगार सर्वोच्च प्राथमिकता : योगी


(बृजवासी शुक्ल) बस्ती (सू.वि.उ.प्र.) । प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि प्रवासी कामगारों को सेवायोजन एवं रोजगार उपलब्ध कराना शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता है। अधिकारीगण बैंक से समन्वय स्थापित करके अधिक से अधिक कामगारों को रोजगार उपलब्ध करायें। वे पुलिस लाईन सभागार में अधिकारियों की बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कोरोना रहेगा और हमें इसके साथ ही इससे बचाव करते हुए कार्यों को आगे बढ़ाना है।   


  उन्होंने कहा कि भारत सरकार एवं प्रदेश सरकार की सभी रोजगारपरक योजनाओं को मिलाकर आगामी 06 माह के लिए कार्य योजना तैयार करें। उन्होंने कहा कि 08 जून से प्रदेश में सभी गतिविधिया शुरू हो जायेंगी। कल से होटल, धर्म स्थल, माल आदि खुलने लगेंगे। इस दौरान मास्क लगाने की अनिवार्यता होगी। सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करना होगा। इसके लिए पुलिस विभाग को अधिक सक्रिय होना पड़ेगा।   


 उन्होंने कहा कि जिले में 98000 से अधिक प्रवासी आये है। इनमें भी कोरोना का इंफेक्शन हो सकता है। इन्हें होम कोरोन्टाईन कराये तथा सुनिश्चित करें कि निगरानी समितियों के माध्यम से इनकी नियमित निगरानी हो सके। मेडिकल टीम इनका स्क्रीनिंग करें, हमें सामुदायिक संक्रमण से लोगों को बचाना है।           


  उन्होंने निर्देश दिया कि शहर एवं गांव में सफाई व्यवस्था सुदृढ करें। आने वाले समय में इन्सेफ्लाईटिस, डेंगू आदि बीमारियाॅ होगी। इससे बचाव के लिए स्वच्छता अपनाया जाना बेहद आवश्यक है। उन्होंने कहा कि किसी व्यक्ति की मृत्यु पर कोरोना का प्रोटोकाल अपनाते हुए उसका तत्काल दाह संस्कार कराया जाय। कोरोना जांच रिपोर्ट की प्रतिक्षा में लम्बे समय तक शव को न रखा जाय।         


 उन्होंने कहा कि कोविड एवं नान कोविड अस्पताल की व्यवस्था सुदृढ करें। कोविड अस्पतालों में डाक्टर एंव पैरा मेडिकल नियमित रूप से जाये। मरीजों की स्थिति के बारे में उनके परिवार को नियमित रूप से जानकारी दे। मरीजों के कमरों में स्वच्छता एवं सेनेटाईजेशन का विशेष ध्यान दें। मरीजो को नियमित रूप से गुनगुना पानी उपलब्ध करायें। 


  उन्होंने कहा कि नान कोविड अस्पताल में इमरजेन्सी सेवा गम्भीर रोगों का ईलाज आपरेशन आदि शुरू करायें । उन्होने कहा कि जिला अस्पताल टू्नैट मशीन प्राप्त हो गयी है। इससे किसी मरीज के बारे में कोरोना निगेटिव होने की जानकारी प्राप्त हो जायेंगी और इसके बाद उसका ईलाज शुरू किया जा सकेगा ।             


उन्होने कहा कि प्रवासी कामगारों को स्थानीय परिस्थितियों के अनुरूप रोजगार उपलब्ध कराये। प्रधानमंत्री द्वारा घोषित सहायता पैकेज में उन्हें लाभ दिलाया जा सकता है। 10 हजार रूपये के लोन पर 60 प्रतिशत ब्याज पर अनुदान है। डिजिटल लेन-देन करने पर अतिरिक्त छूट का प्रावधान है। स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से महिलाओं को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए अलग-अलग कार्य आवंटित किया जाय। साथ ही उसकी मार्केटिंग एवं ब्रान्डिंग भी करायी जाय। इसके अन्तर्गत स्ट्रीट वेण्डर को भी लाभ दिलाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में कृषि और उससे जुड़े हुए विभाग लोगों केा रोजगार उपलब्ध करा सकते है। मनरेगा के अन्तर्गत भी कार्य उपलब्ध कराया जा सकता है।   



  उन्होंने निर्देश दिया कि कानून व्यवस्था की स्थिति पर सतर्क निगाह रखी जाय। गोकशी, लूट, साम्प्रदायिक तनाव को बढ़ावा देने वालों को चिन्हित करके उनके विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करें। साईबर सेल को सक्रिय करके अफवाहों को फैलने से रोकें। उन्होने कहा कि पुलिस फोर्स को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए सुरक्षा के हर सम्भव कदम उठाये जाय। उन्होंने कहा कि प्रदेश में खाद्य वितरण छठवीं बार होने जा रहा है। जिन लोगों के राशन कार्ड नही बने है, उनका राशन कार्ड बनाया जाय। गरीब व्यक्ति को जिन्हें तत्काल राशन उपलब्ध नही करा सकते उन्हें 1000 रूपये की आर्थिक सहायता दी जाय। प्रधानमंत्री आयुष्मान योजना तथा मुख्यमंत्री आरोग्य योजना से आच्छादित न होने वाले बीमार व्यक्ति को 2000 रूपये की आर्थिक सहायता उपलब्ध करायी जाय। गरीब व्यक्ति के मृत्यु पर अन्त्येष्टि के लिए पीड़ित परिवार को 5000 रूपये की आर्थिक सहायता उपलब्ध करायी जाय। 


 जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने बताया कि जिले में कुल 230 कोरोना पाॅजिटिव मरीज है। 92 स्वस्थ्य हो करके घर जा चुके है। अभी तक कुल 10 लोगों की मृत्यु हुयी है। जिले के तीन अस्पतालों में कुल 161 मरीज भर्ती है, जिसमें से 125 बस्ती के है। उन्होंने बताया कि 146515 लोगों को मनरेगा के तहत कार्य उपलब्ध कराकर जिला प्रदेश में प्रथम स्थान पर है। उन्होने बताया कि लाकडाउन का पालन कराने में 313 मुकदमें किए गये। 18 हजार वाहनों का चालान किया गया तथा 776 लोगों की गिरफ्तारी की गयी। गांव में निगरानी समितियों को सक्रिय किया गया है। महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा एक लाख मास्क तथा 3700 पीपीई किट बनाकर वितरित किया गया है।                     



 इसके पूर्व मुख्यमंत्री ने पुलिस लाईन सभागर में जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक किया, जिसमें सांसद हरीश द्विवेदी, विधायक दयाराम चौधरी, अजय सिंह, रवि सोनकर, संजय प्रताप जायसवाल, चन्द्र प्रकाश शुक्ला उपस्थित रहे। मुख्यमंत्री ने जिला अस्पताल जाकर इमरजेन्सी वार्ड का निरीक्षण किया तथा टू्नैट मशीन देखा। उन्होने निर्देश दिया कि इस मशीन से अधिक से अधिक जांच की जाय। 


 बैठक में मण्डलायुक्त अनिल कुमार सागर, आईजी आशुतोष कुमार, पुलिस अधीक्षक हेमराज मीणा, सीडीओ सरनीत कौर ब्रोका, नोडल अधिकारी राम सिहांसन प्रेम, सीएमओ डाॅ0 जेपी त्रिपाठी, ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश मीना, एडीएम रमेश चन्द्र, एएसपी पंकज उपस्थित रहे।


    -   -   -  -  -  -  -   -   -   -   -


देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं


लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page


सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए


मो. न. : - 9450557628


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बस्ती के पूर्व सीएमओ ने गंगा में लगाई छलांग

लॉक डाउन पूरी तरह खत्म

बस्ती जिले में 35 नये डॉ. तैनात