संदेश

Featured Post

दलित महिला स्वतंत्रता सेनानी पद्मश्री कृष्णमल्ल जगन्नाथन : आजादी का अमृत महोत्सव

चित्र
                !! देश की आज़ादी के 75 वर्ष !!  "आज़ादी का अमृत महोत्सव" में आज हैं "पद्मश्री" और "पद्मविभूषण" से सम्मानित तमिलनाडू की एक दलित महिला क्रान्तिकारी वीरांगना और समाज सेविका जो भारतीय स्वतन्त्रता आन्दोलन में भाग लेने के साथ ही सामाजिक न्याय की प्रतीक बनीं। "लैंड फॉर टिलर्स फ्रीडम" (LAFTI) ऑरगनाइजेशन की स्थापना की तथा गाँधीवादी सिद्धान्तों की शक्ति का उपयोग करके दक्षिण भारत को बदल दिया। पूर्वी तंजौर जिले में "अम्मा" के नाम से भी जानी जाने वाली महान वीरांगना समाज सुधारक हैं "कृष्णमल्ल जगन्नाथन"                                     प्रस्तुति - शान्ता श्रीवास्तव 60 - कृष्णमल्ल जगन्नाथन  ने भारतीय स्वाधीनता संग्राम के दौरान असहयोग आन्दोलन, सविनय अवग्या आन्दोलन और भारत छोड़ो आन्दोलन में भाग लेने के साथ साथ सत्याग्रह का उपयोग करते हुए विनोबा भावे जी के "भूदान आन्दोलन" के माध्यम से लगभग चार मिलियन एकड़ भूमि भूमिहीन गरीब लोगों को वितरित की थी। उनका जन्म तमिलनाडू के डिंडीगुल जिला में 16जून 1926 को एक भूमिहीन दलित

राहुल गांधी के खिलाफ फेक न्यूज मामला : न्यूज एंकर को गिरफ्तार करने आई छत्तीसगढ़ पुलिस, नोकझोंक के बाद पकड़ ले गई नोएडा पुलिस

चित्र
                            (बृजवासी शुक्ल)  गाजियाबाद। राहुल गांधी के खिलाफ फेक न्यूज चलाने के आरोपी जी - न्यूज के एंकर रोहित रंजन की आज मंगलवार सुबह नाटकीय ढंग में गिरफ्तारी हो गई। शुरुआत छत्तीसगढ़ पुलिस से हुई जो तड़के करीब साढ़े पांच बजे रोहित के इंदिरापुरम स्थित घर के बाहर पहुंच गई। दरवाजे पर पुलिस देख रोहित ने ट्वीट कर यूपी पुलिस से मदद मांगी। गाजियाबाद पुलिस ने उनके ट्वीट का जवाब ट्वीट से दिया कि वे मदद के लिए जरूरी कार्रवाई कर रहे हैं। रायपुर पुलिस ने भी एंकर को इन्फॉर्म किया, वो भी ट्वीट के जरिए। कहा कि जांच में सहयोग करें। इस बीच गाजियाबाद के इंदिरापुरम की पुलिस भी रोहित के घर पहुंच गई। वहां राेहित की गिरफ्तारी को लेकर रायपुर और इंदिरापुरम पुलिस के बीच खींचतान चल ही रही थी कि नोएडा पुलिस की एंट्री हुई। नोएडा पुलिस ने कहा कि उनके यहां रोहित के खिलाफ केस दर्ज है, और वह रायपुर पुलिस के सामने राेहित को गिरफ्तार कर ले गई।              नाटकीय गिरफ्तारी का घटनाक्रम  आज सुबह करीब 5:30 बजे रायपुर पुलिस एंकर रोहित को गिरफ्तार करने के लिए गाजियाबाद पहुंची। रोहित गाजियाबाद में इंदिरापुरम

बेल्लारी सिद्धम्मा ने झण्डा सत्याग्रह में फहराया था राष्ट्रीय ध्वज : आजादी का अमृत महोत्सव

चित्र
                 !! देश की आज़ादी के 75 वर्ष !!  "आज़ादी का अमृत महोत्सव" में आज चर्चा कर रहे हैं भारतीय स्वाधीनता आन्दोलन में सक्रिय भागीदारी के लिए मैसूर राज्य पुलिस द्वारा गिरफ्तार की गयी पहली महिला स्वतन्त्रता सेनानी जिन्होंने शिवपुर झण्डा सत्याग्रह में "राष्ट्रीय ध्वज" फहराया था। इनका नाम है "बेल्लारी सिद्धम्मा"                                   प्रस्तुति - शान्ता श्रीवास्तव 59 - बेल्लारी सिद्धम्मा एक बहादुर महिला स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी थीं। उनका जन्म धारवाड़ जिला के हावेरी तालुक के डूंडासी गाँव में वर्ष 1903 को हुआ था। उनके पिता का नाम कोट्टेगे बसप्पा था। एक व्यवसायी होते हुए भी उनकी दिलचस्पी स्वतन्त्रता संग्राम में थी। वे अपनी बेटी के लिए समाचार पत्र पत्रिकायें लाते थे। उन्होंने ही अपनी बेटी बेल्लारी सिद्धम्मा को राष्ट्रीय भावना से ओतप्रोत कर राष्ट्रवादी विचारों के लिए प्रेरित किया था। बेल्लारी सिद्धम्मा का विवाह एक स्वतन्त्रता सेनानी मुरूगप्पा से हुआ था जो एक कट्टर राष्ट्रवादी और महात्मा गाँधी जी के अनुयायी थे। जिससे उनके लिए स्वतन्त्रता संग्

मीनारानी श्रीवास्तव को श्रद्धांजलि : शान्ता श्रीवास्तव

चित्र
 मां अपने बच्चों के लिए ईश्वर का आशीर्वाद होती है। मां के आंचल की छांव सदा महसूस होती रहती है। सामाजिक सरोकारों से जुड़ी जरुरतमंदों की सेवा करने वाली स्वर्गीय मीनारानी श्रीवास्तव तीन जुलाई 1999 को गोलोक वासी हो गयी थीं।  वे प्रधानाध्यापिका थीं और उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले के सेवरही भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा की अध्यक्ष भी थीं। इनके एक पुत्र एवं छ: पुत्रियाँ हैं। सभी अलग अलग क्षेत्रों में बेहतर कार्य कर रहे हैं। स्व. मीना रानी का जीवन समाज के वंचित वर्ग को समर्पित रहा। ऐसी मातृत्व की भावना से ओतप्रोत मीनारानी जी को भावभीनी श्रद्धांजलि और सादर नमन। इनकी पुत्री शान्ता श्रीवास्तव वरिष्ठ अधिवक्ता और सामाजिक कार्यकर्ता हैं। ये बार एसोसिएशन धनघटा (संतकबीरनगर) की अध्यक्षा रह चुकी हैं। ये बाढ़ पीड़ितों की मदद एवं जनहित भूख हड़ताल भी कर चुकी हैं। इन्हें "महिला सशक्तिकरण, पर्यावरण, कन्या शिक्षा, नशामुक्त समाज, कोरोना जागरूकता आदि विभिन्न सामाजिक कार्यों में योगदान के लिये अनेकों पुरस्कार व "जनपद विशिष्ट जन" से सम्मानित किया जा चुका है।

कर्नाटक की महिला स्वतंत्रता सेनानी नागम्मा पाटिल : आजादी का अमृत महोत्सव

चित्र
               !! देश की आज़ादी के 75 वर्ष !!  "आज़ादी का अमृत महोत्सव" में आज हैं कर्नाटक की महिला स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी जिन्हें कर्नाटक में "अम्मा" के नाम से भी जाना जाता है। जिन्होंने भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम की लड़ाई लड़ी, जेल गयीं और कर्नाटक में महिलाओं व हरिजन बच्चों के कल्याण के लिए काम किया तथा हरिजन लड़कियों के लिए एक "छात्रावास" शुरू करने वाली वह पहली व्यक्ति थीं। ऐसी महान स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी हैं "नागम्मा पाटिल।" वे महात्मा गाँधी जी के आह्वान पर भारतीय स्वतन्त्रता आन्दोलन में शामिल हुईं तथा एक सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में महिलाओं और हरिजन बच्चों को शिक्षित करने उनके उत्थान के लिए खुद को समर्पित कर दिया था।                                 प्रस्तुति - शान्ता श्रीवास्तव 58 - नागम्मा पाटिल का जन्म 16 दिसम्बर 1905 को हुआ था। उन्होंने 1923 में अपनी प्राथमिक शिक्षा पूरी की और "कर्नाटक लिबरल एजुकेशन सोसाइटी" के संस्थापक और दिग्गज नेता "पद्मश्री" सरदार वीरगौड़ा पाटिल से शादी की। नागम्मा पाटिल ने अपने पति के

डीएम - एसपी ने किया गौरा सैफाबाद तटबंध का निरीक्षण

चित्र
                             (बृजवासी शुक्ल)  बस्ती (सू.वि.उ.प्र.)। जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन तथा पुलिस अधीक्षक आशीष श्रीवास्तव ने दुबौलिया ब्लाक के गौरा, सैफाबाद तटबंध का निरीक्षण किया। यहां पर रिंग बांध का निर्माण चल रहा है। कार्य की धीमी प्रगति को देखते हुए उन्होंने मजदूरों की संख्या बढ़ाने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि कम से कम 150 मजदूर यहां पर लगाए जाएं।  उन्होंने निर्देश दिया कि बरसात की आशंका को देखते हुए समय से काम पूरा करने की आवश्यकता है। उन्होंने निर्देश दिया कि रात में जनरेटर लगाकर कार्य कराए जाएं। यहां पर उन्होंने स्थानीय लोगों से भी बातचीत की और उनकी समस्याओं को जाना। उन्होंने रिंग बांध के पास निर्माणाधीन चकरोड का भी निरीक्षण किया। उन्होंने चकरोड पर और अधिक मिट्टी डाले जाने का निर्देश दिया। मनरेगा से निर्माण कराए जा रहे इस चक रोड को और मजबूत बनाए जाने का उन्होंने निर्देश दिया है। उन्होंने बाढ़ चौकी, पारा का निरीक्षण किया। यहां पर बाढ़ खंड के सभी कर्मचारी, सहायक अभियंता एवं अवर अभियंता उपस्थित मिले। उन्होंने निर्देश दिया कि अन्य विभागों के कर्मचारियों की उपस्थिति भी

आगरा : स्पीहा ने वृक्षारोपण अभियान में रोपे 55 हजार पौधे

चित्र
                           (बृजवासी शुक्ल)  आगरा (उ.प्र.)। स्पीहा ने अपने 16वें अंतर्राष्ट्रीय वृक्षारोपण दिवस पर दुनिया भर में 55 हजार से ज्यादा पौधे लगाए। आज मानव गतिविधियों के कारण दुनिया भर में अरबों पेड़ों को खोना जारी है। भारत स्थित एनजीओ स्पीहा (सोसाइटी फॉर प्रिजर्वेशन ऑफ हेल्दी एनवायरनमेंट एंड इकोलॉजी एंड हेरिटेज ऑफ आगरा) ने अब तक का अपना सबसे बड़ा वृक्षारोपण अभियान चलाकर पर्यावरण को ठीक करने का प्रयास किया। भारत भर में 200 से अधिक स्थानों और 4 महाद्वीपों में 55 हजार से ज्यादा पौधे रोपना।जिसका उद्घाटन समारोह आगरा के दयालबाग में यमुना पंप पर आयोजित किया गया था। डीईआई विश्वविद्यालय की शिक्षा सलाहकार समिति के अध्यक्ष प्रो. प्रेम सरन सत्संगी साहब को 'गार्ड ऑफ ऑनर' प्रदान किया गया, इसके बाद स्पीहा स्वयंसेवकों के एक लाइव बैंड द्वारा भारतीय राष्ट्रीय ध्वज फहराने के साथ-साथ भारतीय राष्ट्रगान गाया गया। सर्वशक्तिमान के कमल चरणों में एक प्रार्थना। दयालबाग, आगरा में जी.एस.सूद, अध्यक्ष राधास्वामी सत्संग सभा; एम.ए. पठान, स्पीहा अध्यक्ष और पी.के. कालरा, निदेशक दयालबाग शैक्षिक संस्