माफिया विनोद उपाध्याय का बस्ती कनेक्शन : एसटीएफ और बस्ती पुलिस ने लगाई फील्डिंग, 50 हजार का ईनामी है मोस्ट वांटेड

 

                        (बृजवासी शुक्ल) 

बस्ती (उ.प्र.)। गोरखपुर के टॉप टेन अपराधी विनोद उपाध्याय का बस्ती कनेक्शन सामने आ रहा है। पुलिस से भागते फिर रहे 50 हजार के ईनामी माफिया विनोद उपाध्याय पर बस्ती पुलिस ने भी शिकंजा कस दिया है। इसके बस्ती जिले में छिपे होने की सूचना पर बस्ती पुलिस अलर्ट मोड पर है और इसे गिरफ्तार करने के लिए जाल बिछा दिया है। क्योंकि वह पुलिस को चकमा देकर यहां सरेंडर करके जेल को अपना सुरक्षित ठिकाना बनाना चाहता है। यहां एसटीएफ के भी डेरा डालने की सूचना है। बस्ती में शहर कोतवाल शशांक शेखर राय और एसओ योगेश सिंह सहित जिले के टॉप पुलिस अफसरों को इस आपरेशन के लिए लगा दिया गया है।

 जानकारी के मुताबिक बस्ती जिले के पुरानी बस्ती में माफिया के अपने रिश्तेदार के घर छिपे होने की खबर से पुलिस हलकान हो गयी है। हर हाल में उसे धर दबोचने और पर कतरने को आमादा पुलिस किसी भी सूरत में उसे अपने हाथ से जाने नहीं देना चाहती। लखनऊ से लेकर गोरखपुर तक इसने पुलिस को नाकों चने चबवा दिये हैं। यह गोरखपुर के टॉप टेन और उत्तर प्रदेश के टॉप 66 माफियाओं में से एक है। इसके ऊपर हत्या, रंगदारी जैसे कुल मिलाकर 32 मुकदमें दर्ज हैं। यह बस्ती में जिस रिश्तेदार के वहां छिपा है, उसका नाम प्रभाकर दूबे बताया जा रहा है। यह लखनऊ में पूर्व मंत्री बन कर रह रहा था। एसटीएफ ने वहां भी दबिश दी थी, उसके पहुंचने के पहले ही वह ठिकाना छोड़ चुका था। इसी बीच इसकी गुंडागर्दी का गोरखपुर में एक नया मामला भी सामने आया है। जिसमें जबरदस्ती जमीन बैनामा या भारी भरकम रंगदारी मांगे जाने की बात कही गयी है। 


       ➖    ➖    ➖    ➖    ➖ 

देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं

लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page

सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए

मो. न. : - 9450557628

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रमंति इति राम: , राम जीवन का मंत्र

स्वतंत्रता आंदोलन में गिरफ्तार होने वाली राजस्थान की पहली महिला अंजना देवी चौधरी : आजादी का अमृत महोत्सव

निकाय चुनाव : बस्ती में नेहा वर्मा पत्नी अंकुर वर्मा ने दर्ज की रिकॉर्ड जीत, भाजपा दूसरे और निर्दल नेहा शुक्ला तीसरे स्थान पर