बस्ती में क्या पत्नी के हुकुम से जेलर चलाते जेल का प्रशासन : डीएम से शिकायत

                          (विशाल मोदी) 

 बस्ती (उ.प्र.)। स्थानीय जिला कारागार में जेलर पर जेल के कर्मचारियों ने प्रताड़ित करने, छुट्टी न देने और अभद्र भाषा का प्रयोग करने का आरोप लगाया है। जेल के सिपाहियों ने कलेक्ट्रेट कार्यालय पहुंचकर डीएम से लिखित शिकायत की। जेल कर्मियों ने जेलर द्वारा किए जा रहे उत्पीड़न से निजात दिलाने की मांग किया है। कर्मियों ने जेलर की पत्नी द्वारा छुट्टी और अन्य कामकाज में बेवजह दखल देने के गम्भीर आरोप लगाए हैं।

   (डीएम को शिकायती पत्र देकर समस्या से अवगत कराते जेलकर्मी) जेलर के खिलाफ की गई शिकायत में जेल कर्मियों ने आरोप लगाते हुए कहा है कि उन्हें छुट्टी नही दी जाती। कुछ चुनिंदा जेल कर्मचारियों को अपने निजी कार्यों में व्यस्त रखा जाता है। उन्हें छुट्टी भी दे दी जाती है, जबकि अन्य जेल कर्मचारियों के द्वारा छुट्टी मांगे जाने पर उनके द्वारा अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुए भगा दिया जाता है। छुट्टी मांगने पर कभी प्रभारी जेल अधीक्षक एडीएम से छुट्टी लेने की बात कही जाती हैं तो कभी नौकरी छोड़ देने की बात कहते हैं। निलंबन और इंकार आदेश का हवाला देकर डराया धमकाया जाता है। जेल कर्मियों ने उन पर मानसिक रूप से उत्पीड़ित किए जाने का भी आरोप लगाया है।
 जेल कर्मियों का कहना है कि किसी जेल कर्मी के परिवार में किसी की मृत्यु हो जाने के बाद भी उसको छुट्टी नहीं दी जाती है। ऐसे मामलों का जिक्र भी किया गया है कि कर्मियों की शादी तय होने के बाद भी उनको छुट्टी नहीं दी जाती है। जेल कर्मियों ने आरोप लगाया है कि जेलर की पत्नी की खुशामद न करने पर भी उनको मानसिक रूप से उत्पीड़ित किया जाता है। आरोप लगाया है कि छुट्टी की संस्तुति तभी की जाती है जब उनकी पत्नी कहती हैं। डीएम प्रियंका निरंजन ने मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच कराकर कार्यवाही करते हुए समस्या के समाधान का आश्वासन दिया है। 

        ➖    ➖    ➖    ➖    ➖

देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं

लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page

सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए

मो. न. : - 9450557628

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रमंति इति राम: , राम जीवन का मंत्र

स्वतंत्रता आंदोलन में गिरफ्तार होने वाली राजस्थान की पहली महिला अंजना देवी चौधरी : आजादी का अमृत महोत्सव

सो कुल धन्य उमा सुनु जगत पूज्य सुपुनीत