फोटो सेशन में दोनों डिप्टी सीएम गायब : अखिलेश ने उठाए सवाल

                         (बृजवासी शुक्ल) 

 लखनऊ। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने सोशल मीडिया पर एक फोटो शेयर की। ये तस्वीर तीन मार्च को विधानसभा बजट सत्र के समापन मौके पर फोटो सेशन की है। तस्वीर में दोनों डिप्टी सीएम यानी केशव प्रसाद मौर्य और ब्रजेश पाठक नहीं हैं। अखिलेश यादव ने तस्वीर के साथ लिखा- दोनों मुख्यमंत्रियों के बिना खींची गई सदन-विधायकों की तस्वीर अधूरी है। अखिलेश ने एक वीडियो भी शेयर किया है। इसमें पुलिसकर्मी डमरू बजाने वाले पर लाठियां बरसा रहे हैं। बता दें विधानसभा का सत्र बीस फरवरी से तीन मार्च तक ग्यारह दिन चला। इन ग्यारह दिनों में सदन की कार्यवाही कुल 83 घण्टे दो मिनट चली है।

(यह फोटो 3 मार्च की है। जब विधानसभा सत्र के समापन के बाद सभी सदस्यों के साथ फोटो सेशन कराया गया)

अखिलेश यादव ने लिखा- दोनों उपमुख्यमंत्रियों के बिना खींची गई सदन-विधायकों की तस्वीर अधूरी है। हमारी मांग है कि सरकार की तरफ से उनकी अनुपस्थिति का स्पष्टीकरण आए। उन्होंने तीन सवाल किए हैं - पहला यह कि वो लोग आए नहीं या बुलाए नहीं गए ? दूसरा यह कि उपमुख्यमंत्रियों के पद का कोई महत्व है या नहीं ? तीसरा यह कि क्या उनकी गिनती होती भी है या नहीं ?

(इस फोटो से सम्बन्धित वीडियो को अखिलेश यादव ने शेयर किया है, जिसमें पुलिसकर्मी डमरु लिए एक व्यक्ति को मार रहे हैं)

अखिलेश ने जो वीडियो शेयर किया है, उसमें दिख रहा कि हाथ में डमरू लिए एक व्यक्ति को पुलिसकर्मी लाठी से पीट रहे हैं। यह वीडियो शेयर करते हुए अखिलेश ने लिखा- 'भाजपा काल में काशी के घाट पर लाठी से पुलिसिया होली खेलने का नया दौर आया है। शुक्र तो ये मनाइए कि होली खेलनेवालों पर भाजपाइयों ने बुलडोजर नहीं चलवाया। शायद एकरंगी सोच वालों को बहुरंगी होली पसंद नहीं।'

वहीं, इस वीडियो पर वाराणसी कमिश्नरेट पुलिस की ओर से स्पष्टीकरण जारी किया गया है। सोशल मीडिया सेल पुलिस उपायुक्त काशी जोन का कहना है कि मसान होली के दौरान एक व्यक्ति नशे की हालत में था। उसने कार्यक्रम में शामिल एक व्यक्ति का डमरू छीन लिया था। वहां मौजूद लोगों से दुर्व्यवहार कर रहा था। जिस पर पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर भीड़ से बाहर किया।

            83 घंटे 2 मिनट चला सदन

उत्तर प्रदेश विधानसभा सत्र का समापन 3 मार्च की शाम को हुआ। विधानसभा सत्र 20 फरवरी से शुरू होकर 11 दिन तक चला। सतीश महाना ने बताया कि सत्र में 11 उपवेशन हुए। सदन की कार्यवाही 83 घंटे 38 मिनट चली। 36 मिनट स्थगन और 1 घंटे 51 मिनट भोजन अवकाश के साथ ही 83 घंटे 2 मिनट सदन चला। 21 फरवरी को विधानसभा के वर्तमान और पूर्व सदस्यों के निधन पर उनको श्रद्वांजलि दी गई। नेताओं द्वारा शोक व्यक्त किया गया।

ग्यारह दिन के उपवेशन में अल्पसूचित प्रश्न 2, तारांकित प्रश्न 362, अतारांकित प्रश्न 2519 प्राप्त हुए। इनमें कुल 1259 प्रश्न उत्तरित हुए। सरकार का ध्यान आकर्षित करने वाले नियम - 301 की तमाम सूचनाओं पर शासन का ध्यान आकृष्ट किया गया। इसी सत्र में कुल - 3866 याचिकाएं सदन में प्रस्तुत की गईं। सदन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 2 घंटे 47 मिनट उपस्थित रहकर बजट पर चर्चा की। अब तक की उपलब्धियों पर प्रकाश डाला। वे सदन की कार्यवाही में उपस्थित रहे।

            ➖    ➖    ➖    ➖    ➖

देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं

लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page

सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए

मो. न. : - 9450557628

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रमंति इति राम: , राम जीवन का मंत्र

स्वतंत्रता आंदोलन में गिरफ्तार होने वाली राजस्थान की पहली महिला अंजना देवी चौधरी : आजादी का अमृत महोत्सव

सो कुल धन्य उमा सुनु जगत पूज्य सुपुनीत