ऋषभ पंत का कार एक्सीडेंट, खतरे से बाहर ऋषभ पंत, जलकर खत्म हो गई मर्सिडीज


                           (बृजवासी शुक्ल) 
रुड़की। कार दुर्घटना में घायल 25 साल के क्रिकेटर ऋषभ पंत पहले से बेहतर हैं। मैक्स अस्पताल ने शुक्रवार शाम मेडिकल बुलेटिन जारी कर इसकी जानकारी दी। अस्पताल ने बताया- पंत की ब्रेन और स्पाइन एमआरआई रिपोर्ट नॉर्मल आई है। शुक्रवार को उनके चेहरे की प्लास्टिक सर्जरी हुई है। दर्द-सूजन के कारण पंत के घुटने और टखने की एमआरआई टाल दी गई है। ये दोनों जांच शनिवार को होंगी। बता दें कि पंत शुक्रवार को सुबह सड़क हादसे में बाल-बाल बच गए। पुलिस के मुताबिक, झपकी लगने से यह हादसा हुआ। उनकी मर्सिडीज अनियंत्रित होकर डिवाइडर से जा टकराई, जिसके बाद उसमें आग लग गई और पलट गई।
इधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पंत के एक्सीडेंट पर चिंता जताई।उन्होंने लिखा- क्रिकेटर ऋषभ पंत के हादसे में घायल होने से व्यथित हूं। मैं उनके अच्छे स्वास्थ्य के लिए प्रार्थना करता हूं। पीएम ने उनकी मां से फोन पर बातचीत की और उनका हालचाल भी लिया। एक्सीडेंट के बाद पंत जलती हुई कार की खिड़की तोड़कर खुद ही बाहर निकले। लोग बचाने पहुंचे तो बोले- मैं ऋषभ पंत हूं। उन्हें सिर, पीठ और पैर में गंभीर चोटें आई हैं। डॉक्टरों के मुताबिक, उनकी हालत खतरे से बाहर है। उन्हें इलाज के लिए रुड़की से देहरादून ले जाया गया है। यहां के मैक्स हॉस्पिटल में उनका इलाज चल रहा है। डॉक्टर की एक टीम उनकी निगरानी कर रही है।

BCCI ने कहा- माथे पर दो चोटें आईं, घुटने का लिगामेंट टूटा
बोर्ड के सचिव जय शाह ने कहा, पंत के माथे पर दो चोटें आईं हैं। घुटने का लिगामेंट टूटा है। दाहिनी कलाई और एड़ी में भी चोट पहुंची हैं। एमआरआई के बाद उनकी चोट की गंभीरता का पता चल सकेगा। हम लगातार मेडिकल टीम और उनकी फैमिली के संपर्क में हैं। इस मुश्किल समय में हम पंत को हरसंभव मेडिकल ट्रीटमेंट और मदद देंगे।

आज सुबह 5.30 बजे रुड़की के नारसन बॉर्डर पर हम्मदपुर झाल के मोड़ पर हुआ। वह अपनी कार नंबर डीएल 10 सीएन 1717 को खुद ही ड्राइव कर रहे थे। झपकी के बाद उनकी मर्सिडीज अनियंत्रित होकर डिवाइडर से जा टकराई। यह जगह उनके घर से 10 किलोमीटर दूर है। उस वक्त कार की रफ्तार 150 किमी/घंटे थी। कार 200 मीटर तक घिसटते चली गई।
हादसे के बाद ऋषभ पंत को एंबुलेंस से पहले इलाज के लिए रुड़की के सक्षम हॉस्पिटल ले जाया गया। अभी उनकी हालत स्थिर है। पंत को सिर, पीठ और पैर में चोटें आई हैं। सक्षम हॉस्पिटल के चेयरमैन और ऑर्थोपेडिक सर्जन डॉक्टर सुशील नागर ने दैनिक भास्कर को बताया कि MRI के बाद ही पता चलेगा कि उनके घुटने में कौन सी हड्‌डी टूटी है। पंत को ऑपरेशन की जरूरत भी पड़ सकती है। इसके बाद पता चलेगा कि वे कब तक खेल पाएंगे।

      मां को सरप्राइज देने अकेले घर जा रहे थे
ऋषभ पंत अकेले घर जा रहे थे। उनका घर रुड़की रेलवे स्टेशन के पास है। डॉक्टर सुशील नागर ने दैनिक भास्कर को बताया कि वह अपनी मां को सरप्राइज देने के लिए जा रहे थे।
गांव वालों ने बताया कि उन्होंने तेज धमाका सुना। देखा कि एक कार डिवाइडर से टकराने के बाद कुछ फीट तक घसीटते चली गई। ऐसा लगा कि पलटी और उसमें आग लग गई। हमने उन्हें उठाया और अस्पताल पहुंचाया। उधर, उत्तराखंड डीजी अशोक कुमार के मुताबिक, एक्सीडेंट के बाद पंत जलती हुई कार की खिड़की तोड़कर बाहर निकले थे। उनकी मर्सडीज बुरी तरह जल गई है। डॉक्टर सुशील नागर ने बताया कि पंत सीट बेल्ट नहीं पहने थे। इसलिए वे सुरक्षित बाहर आ गए। अगर वे सीट बेल्ट पहने होते तो कार में आग लगने के बाद वह झुलस सकते थे।

   मदद की बजाय लोग जेबों में रख रहे थे रुपये 
ऐसा बताया जा रहा है कि ऋषभ की गाड़ी में करीब तीन से चार लाख रुपए थे। घटना के बाद सारे रुपए सड़क पर बिखरे पड़े थे। वे वहां तड़पते रहे लेकिन इस दौरान कुछ लोग ऋषभ की मदद करने के बजाय नोट अपनी जेबों में भरने और वीडियो बनाने में मशगूल हो गए।
ऋषभ पंत को हादसे के बाद हरियाणा के पानीपत जिले की रोडवेज डिपो के ड्राइवर सुशील और कंडक्टर परमिंदरजीत सिंह ने जलती कार से बाहर निकाला था। उनकी बस हरिद्वार से पानीपत आ रही थी। उनका कहना है कि पंत की कार दूसरी साइड से उछलकर उनकी बस के आगे आ गई। उसने इमरजेंसी ब्रेक लगाने चाहे, लेकिन तक कार पलटी खाकर कंडक्टर साइड चल गई। दोनों ने पंत को बाहर निकाला और पीठ पर चोट देख छाती के बल कच्ची जगह पर लिटा दिया। दोनों को इस काम के लिए पानीपत के रोडवेज डिपो में सम्मानित किया गया।

   पंत श्रीलंका सीरीज से बाहर, आराम दिया गया
ऋषभ पंत को श्रीलंका के खिलाफ वनडे और टी-20 घरेलू सीरीज के लिए टीम में जगह नहीं दी गई थी। यह सीरीज 3 से 15 जनवरी तक चलेगी। यही नहीं इससे पहले बांग्लादेश दौरे पर पंत को 3 मैचों की वनडे सीरीज शुरू होने से एक दिन पहले टीम इंडिया से आराम दिया गया था। हालांकि, वह दो टेस्ट मैचों की सीरीज में टीम के हिस्सा थे। उन्होंने दो टेस्ट मैचों की सीरीज में 49.33 की औसत से 148 रन बनाए।
बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट सीरीज में फिर एक बार खुद को साबित करने वाले ऋषभ पंत छोटे फॉर्मेट में फेल क्यों हो जाते हैं? क्रिकेटिंग फैंस के इस सवाल को भास्कर ने जब क्रिकेट एक्सपर्ट्स से पूछा तो उनका कहना था, 'पंत वनडे और टी-20 क्रिकेट खेलने के लिए मानसिक रूप से रेडी नहीं हैं। उन्हें छोटे फॉर्मेट के गेम को समझने के लिए अभी और काम करने की जरूरत है।'
श्रीलंका के खिलाफ वनडे और टी-20 होम सीरीज के लिए टीम इंडिया का ऐलान कर दिया गया है। इंजर्ड रोहित शर्मा की जगह हार्दिक पंड्या को टी-20 टीम का कप्तान बनाया गया है। जबकि सूर्यकुमार यादव पहली बार उप कप्तान बने हैं। वनडे की कमान रोहित के पास ही रहेगी। रोहित और विराट कोहली को टी-20 से आराम दिया गया है। हालांकि, ये दोनों वनडे टीम का हिस्सा हैं। शिखर धवन और ऋषभ पंत को टीम से बाहर कर दिया गया है।
        ➖    ➖    ➖    ➖    ➖
देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं
लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page
सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए
मो. न. : - 9450557628

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बस्ती : दवा व्यवसाई की पत्नी का अपहरण

अयोध्या : नहाते समय पत्नी को किस करने पर पति की पिटाई

बस्ती : पत्नी और प्रेमी ने बेटी के सामने पिता को काटकर मार डाला, बोरे में भरकर छिपाई लाश