कृष्ण का जन्म होते ही जयकारे से गूंजा पंडाल

 

                           (अनूप पाण्डेय) 

हर्रैया (बस्ती) । धरती वासी कंस के अत्याचार से त्राहि त्राहि कर रहे थे, मानवता अंतिम सांसे ले रही थी,धर्म का मार्ग बंद हो चुका था। ऐसे में धर्म की रक्षा के लिए स्वयं भगवान श्री कृष्ण को स्वय जन्म लेना पड़ा, भगवान श्री कृष्ण का जन्म होते ही कथा पंडाल जय जय कर से गूंज उठा।

उक्त दृश्य और वातावरण छावनी थाना क्षेत्र के मल्लूपुर ग्राम मे श्रीमद भागवत कथा के दौरान जीवंत हो उठा, कथा व्यास आचार्य कुंडल जी महराज ने श्री कृष्ण जन्म कथा प्रसंग की कथा का वर्णन कर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। कथा का विस्तार करते हुए कथा व्यास ने कहा कि जब जब धर्म की हानि होती है, तब तब स्वयं भगवान श्री नारायण धरती पर अवतार लेकर दुष्टों का विनाश कर के धर्म की स्थापना करते हैं। कथा व्यास ने कहा कि किसी भी परिस्थिति में धर्म का संग नही छोड़ना चाहिए, प्रभु अपने भक्त की परीक्षा तो लेते हैं,लेकिन कठिन परीक्षा में भी अपने भक्त को हारने नही देते। इसलिए कभी भी धर्म विमुख नही होना चाहिए। कथा के पूर्व कथा के आयोजक अनिरुद्ध मिश्र ने भागवत पुराण की माल्यार्पण कर बंदना किया।
कथा व्यास का माल्यार्पण सीडब्लूसी के चेयर पर्सन प्रेरक मिश्र ने किया। श्री कृष्ण जन्म की कथा प्रसंग के दौरान सोहर, बधाई गीतों से माहौल आनंदमय हो गया। इस मौके पर प्रवीण मिश्रा, चंद्रमणि सुदामा, हरैया थाना के एसएसआई सुरपति त्रिपाठी, पूर्व प्रधान माधोक मिश्रा, प्रधान प्रतिनिधि राजन मिश्रा, संजय मिश्र, प्रधान बबलू यादव,राम शंकर ओझा, ओम प्रकाश तिवारी, कार्तिक मिश्रा, विराट मिश्रा, विरंच शांडिल्य, सरगम मिश्रा, कृतिका मिश्रा स्वाति मिश्रा के साथ बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजुद रहे।

        ➖    ➖    ➖    ➖    ➖

देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं

लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page

सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए

मो. न. : - 9450557628

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रमंति इति राम: , राम जीवन का मंत्र

अतीक का बेटा असद और शूटर गुलाम पुलिस इनकाउंटर में ढेर : दोनों पर था 5 - 5 लाख ईनाम

अतीक अहमद और असरफ की गोली मारकर हत्या : तीन गिरफ्तार