बस्ती मेडिकल कॉलेज की डॉ तनु मिश्रा को गोल्ड मेडल

                           (नीतू सिंह) 

लखनऊ। इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में डा. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान के दूसरे स्थापना दिवस के मौके पर बस्ती की डॉ. तनु मिश्रा ने गोल्ड मेडल हासिल कर जिले मान बढ़ाया है। उन्हें यह सम्मान आज इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान संस्थान में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक, चिकित्सा शिक्षा राज्यमंत्री मयंकेश्वर शरण सिंह, मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र, चिकित्सा शिक्षा के प्रमुख सचिव आलोक कुमार की गरिमामयी उपस्थिति में प्रदान किया गया। 

बस्ती मेडिकल कॉलेज की डॉ. तनु को गोल्ड मेडल

रेडियोलोजी विभाग का मैडल कुलाधिपति / राज्यपाल आनंदीबेन पटेल द्वारा संस्थान की सबसे मेधावी चिकित्सक छात्रा डॉ. तनु मिश्रा को गोल्ड मेडल प्रदान किया गया। ज्ञातव्य है कि डा.तनु मिश्रा इससे पहले 2017 में छत्रपति शाहूजी महाराज विश्व विद्यालय से कुलाधिपति राम नाईक द्वारा सर्वोच्च अंक गोल्ड और कुलाधिपति मैडल प्राप्त कर चुकी है। डॉ. तनु मिश्रा वर्तमान में महर्षि वशिष्ठ चिकित्सा महाविद्यालय बस्ती में सहायक प्रोफेसर पद पर कार्यरत हैं।


  डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान के इस उत्कृष्ट कार्यक्रम में मशहूर ह्दय रोग विशेषज्ञ पद्मभूषण डॉ. देवी प्रसाद शेट्टी ने व्याख्यान दिए। डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान की निदेशक डॉ. सोनिया नित्यानंद की देखरेख में कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम में संस्थान की वार्षिक गतिविधियों और भावी योजनाओं पर चिंतन और मनन किया गया। गत वर्ष संस्थान के एकेडमिक सत्र में सर्वाधिक अंक और स्थान पाने वाले चिकित्क छात्र/ छात्राओं को संस्थान की तरफ से मैडल भी बांटे गए। लोहिया संस्थान प्रदेश का पहला ऐसा संस्थान है जहां पर राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग एनएमसी से स्नातकोत्तर की 66 सीटों की स्वीकृति मिली है। स्थापना दिवस के मौके पर एम डी/एमएस /एमबीबीएस के लगभग 45 छात्र छात्राओं को अलग-अलग विषयों में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए सम्मानित भी किया गया। प्रो. सोनिया ने बताया कि बच्चों के लिए पीडियाट्रिक आर्थोपेडिक्स, पीडियाट्रिक नेत्र रोग विभाग, गैस्ट्रोलाजी और हीपैटोलाजी के विभाग शुरू किए जा रहे हैं।
इन विभागों के शुरू होने से बच्चों के गंभीर विकारों को समय पर इलाज मिल सकेगा। संस्थान में अम्नियोसेंटेसिस जांच हो रही है। इससे गर्भस्थ शिशु के आनुवंशिक विकारों का पता चल सकता है। इसके अलावा सिर और गले के कैंसर की क्लीनिक और गठिया विभाग जैसे कई अन्य विभागों को शुरू करने का प्रस्ताव शासन को भेजा गया है। इस अवसर पर आईआईटी कानपुर और लोहिया संस्थान के बीच डिजिटल हेल्थ और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के बीच के ऊपर एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर हुए। इसके जरिए डिजिटल माध्यम से बड़ी संख्या के मरीजों की बीमारी का पता एक बार में ही लगाया जा सकेगा ताकि इलाज भी समय से शुरू हो सके।

       ➖    ➖    ➖    ➖    ➖

देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं

लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page

सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए

मो. न. : - 9450557628

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रमंति इति राम: , राम जीवन का मंत्र

स्वतंत्रता आंदोलन में गिरफ्तार होने वाली राजस्थान की पहली महिला अंजना देवी चौधरी : आजादी का अमृत महोत्सव

सो कुल धन्य उमा सुनु जगत पूज्य सुपुनीत