बस्ती जिले में होगा 2156 सास - बहू - बेटा सम्मेलन

 

सास - बेटा और बहू को बताएंगे परिवार नियोजन के फायदे

                         (विशाल मोदी) 

बस्ती (उ.प्र.)। एक ही जगह पर इकट्ठा होकर सास - बेटा और बहू परिवार नियोजन के कार्यक्रमों पर चर्चा करेंगे। विभिन्न खेल व प्रतियोगिता के जरिए उन्हें छोटे परिवार के फायदे बताए जाएंगे। स्वास्थ्य विभाग इसके लिए जिले भर में 2156 जगहों पर कार्यक्रम आयोजित कर रहा है।

                (चिलवनिया में सास - बहू - बेटा सम्मेलन) 
सदर ब्लॉक के चिलवनिया व भुअनी में आयोजित सास-बेटा-बहू सम्मेलन में शामिल प्रतिभागी परिवारों ने कार्यक्रम को लाभकारी बताया। भुअनी में आयोजित कार्यक्रम में शामिल शकुंतला देवी ने बताया कि इस आयोजन में सबसे बड़ी बात यह रही कि परिवार नियोजन के प्रति जो झिझक थी वह अब नहीं रही। घर के बुजुर्गो को भी अब छोटे परिवार के फायदे की समझ होगी। नई नस्ल को परिवार नियोजन के साधन अपनाने का अवसर मिलेगा। चिलवनिया में आयोजित कार्यक्रम में शामिल आकांक्षा ने बताया कि उन्हें इस बात की जानकारी नहीं थी कि अस्पतालों में इतने तरह की और नि:शुल्क परिवार नियोजन की सुविधाएं उपलब्ध हैं। इसका फायदा सभी को उठाना चाहिए। वहां पर होने वाली प्रत्योगिता व गुब्बारे का खेल बड़ा रोचक रहा। किसी के लिए सास के साथ बैठकर परिवार नियोजन पर बात करना इससे पहले शायद संभव नहीं था।
             (चिलवनिया में सास - बहू - बेटा सम्मेलन) 
सीएमओ डॉ. चंद्रशेखर ने बताया कि शहरी क्षेत्र में 50 कार्यक्रम व शेष ग्रामीण क्षेत्र में आयोजित होंगे। एएनएम की देखरेख में कार्यक्रम का आयोजन होगा। प्राय: यह देखा गया है कि परिवार के निर्णयों में पुरूष की सहमति को सर्वोपरि समझा जाता है। इसलिए इस बार इस बात पर विशेष जोर है कि सम्मेलन में बेटे की भी भागीदारी सुनिश्चित हो। इस कार्यक्रम का उद्देश्य सास और बहू के बीच समन्वय व संवाद के जरिए उनके अनुभव को साझा करवाना है। इससे प्रजनन स्वास्थ्य के प्रति बनी हुई अवधारणा, व्यवहार व विश्वास में बदलाव लाया जा सकेगा।
               (भुवनी में सास - बहू - बेटा सम्मेलन) 
एसीएमओ आरसीएच डॉ. सीके वर्मा ने बताया कि कार्यक्रम में परिवार नियोजन के अस्थायी व स्थायी साधन, प्रसव पश्चात के साधन, दो बच्चों के बीच अंतराल व सुरक्षित गर्भसमापन पश्चात परिवार नियोजन के साधन की जानकारी दी जानी है।
                (भुवनी में सास - बहू - बेटा सम्मेलन) 
सम्मेलन में गुब्बारे के खेल का आयोजन किया जाएगा। इसमें चार परिवार प्रतिभाग करेंगे। हर परिवार को अलग-अलग संख्या में क्रमश: एक, दो, तीन तथा पांच गुब्बारे दिए जाएंगे। खेल-खेल में छोटे परिवार के फायदे के बारे में जानकारी देंगे। कार्यक्रम में परिवार नियोजन के उपलब्ध साधनों व उसके फायदे के बारे में भी बताया जाएगा।

               ये होंगे आमंत्रित 

इस कार्यक्रम में एक साल के अंदर के नवविवाहित दंपत्ति के साथ साथ एक साल के अंदर की उच्च जोखिम गर्भावस्था वाली महिलाओं को आमंत्रित किया जाएगा। इसके अलावा ऐसे दंपति जिन्होंने परिवार नियोजन का कोई साधन नहीं अपनाया है और ऐसे दंपत्ति जिनके तीन या तीन से अधिक संतान हैं, उन्हें आमंत्रित किया जाएगा।

          आदर्श दंपत्ति बनेंगे नजीर

परिवार नियोजन कार्यक्रम को बढ़ावा देने के लिए आदर्श दंपति नजीर बनेंगे। ऐसे दंपति जिनके यहां विवाह के दो वर्ष बाद बच्चा पैदा हुआ हो, पहले व दूसरे बच्चे में कम से कम तीन साल का अंतर हो या दो बच्चे के बाद दंपति में से किसी एक ने नसबंदी करा ली हो। ऐसे दंपति को मुख्य रूप से कार्यक्रम में आमंत्रित किया जाएगा। यह लोग अपना अनुभव साझा करेंगे। इसके अलावा जिसने परिवार नियोजन का कोई भी साधन नहीं अपनाया है, उन्हें भी अपना अनुभव साझा करने को कहा जाएगा। बॉस्केट ऑफ च्वॉयस का काउंटर लगाया जाएगा। इसी के साथ प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का भी आयोजन किया जाएगा। विजेताओं को उपहार दिया जाएगा।

        ➖    ➖    ➖    ➖    ➖

देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं

लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page

सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए

मो. न. : - 9450557628

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अयोध्या : नहाते समय पत्नी को किस करने पर पति की पिटाई

बस्ती : पत्नी और प्रेमी ने बेटी के सामने पिता को काटकर मार डाला, बोरे में भरकर छिपाई लाश

नवनिर्वाचित विधायक और समर्थकों पर एफआईआर