महान स्वतंत्रता सेनानी एवी कुट्टीमालू अम्मा : आजादी का अमृत महोत्सव

            !! देश की आज़ादी के 75 वर्ष !! 

"आज़ादी का अमृत महोत्सव" में आज महान स्वतन्त्रता सेनानी सामाजिक कार्यकर्ता और राजनीतिज्ञ "ए. वी. कुट्टीमालू अम्मा" के बारे में बात कर रहे हैं। 

                                        प्रस्तुति - शान्ता श्रीवास्तव

26 - एवी कुट्टीमालू अम्मा का जन्म - पलक्कड़ जिले के अनक्कारा गाँव में 23अप्रैल 1905 में हुआ था। गोविन्दा मानव और माधवियम्मा दम्पति से हैं। उनके पति का नाम- कोझीपुरथ माधव मेनन था। केरल की रहने वाली स्वतन्त्रता सेनानी कुट्टीमालू अम्मा प्राथमिक स्कूल तक की शिक्षा प्राप्त करने के बाद भी कई भाषाओं की जानकार थीं। 25 अप्रैल 1931 मार्गरेट पावमणि के साथ उन्होंने त्रिसूर शहर में मध्यमवर्गीय परिवारों की महिलाओं के एक समूह के साथ एक धरना का आयोजन किया। सन् 1932 में "सविनय अवग्या आन्दोलन" में भाग लेने के दौरान उन्हें जेल में डाल दिया गया।

अपने दो महीने के बच्चे के साथ कुट्टीमालू अम्मा दो साल तक जेल में रहीं। जेल से रिहा होने के बाद उन्हें 1936 में मद्रास विधान सभा के लिये नामांकित किया गया था। सन् 1937 में उन्होंने "पुअर होम सोसाइटी" की स्थापना की। 1942 में भारत छोड़ो आन्दोलन के दौरान उन्हें फिर से दो साल के लिए जेल में डाल दिया गया। 1946 में वह फिर से मद्रास विधान सभा के लिए चुनी गयीं। वे मालाबार के रेजीडेन्सी में काँग्रेस की कार्यवाही के आयोजन में एक प्रमुख व्यक्ति बन गयीं और भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस कार्य समिति में भी काम किया। वह हिन्दी प्रचार सभा की अध्यक्ष और हिन्दी प्रचारिका भी थीं। उन्होंने मद्रास प्रेसीडेन्सी में ज़रूरतमंदों की सेवा करने के साथ ही मालाबारा में कई अनाथालयों की स्थापना भी की थी। देश के विभाजन के बाद उन्होंने अनाथ मंदिर, हरिजन कल्याण, वर्मा एवम् पाकिस्तान के शरणार्थियों के लिये भी बड़ा काम किया था। 1962 में चीन के साथ युद्ध के दौरान कश्मीर में सैनिकों को सहायता सामग्री पहुँचाई। अखिल भारतीय महिला सम्मेलन की भी अध्यक्ष रहीं। उन्होंने कई सभा एवम् संस्थाओं से जुड़कर देश सेवा का थी। 14अप्रैल 1985को उनकी मृत्यु हो गई। 

 आइये इस महान स्वतन्त्रता सेनानी को प्रणाम करें उनसे प्रेरणा लें! सादर शत शत नमन! भावपूर्ण श्रद्धांजलि! जय हिन्द! जय भारत! वन्दे मातरम! भारत माता जी की जय! 

         ➖    ➖    ➖    ➖    ➖

देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं

लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page

सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए

मो. न. : - 9450557628

शान्ता श्रीवास्तव वरिष्ठ अधिवक्ता और सामाजिक कार्यकर्ता हैं। ये बार एसोसिएशन धनघटा (संतकबीरनगर) की अध्यक्षा रह चुकी हैं। ये बाढ़ पीड़ितों की मदद एवं जनहित भूख हड़ताल भी कर चुकी हैं। इन्हें "महिला सशक्तिकरण, पर्यावरण, कन्या शिक्षा, नशामुक्त समाज, कोरोना जागरूकता आदि विभिन्न सामाजिक कार्यों में योगदान के लिये अनेकों पुरस्कार व "जनपद विशिष्ट जन" से सम्मानित किया जा चुका है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बस्ती : दवा व्यवसाई की पत्नी का अपहरण

अयोध्या : नहाते समय पत्नी को किस करने पर पति की पिटाई

बस्ती : पत्नी और प्रेमी ने बेटी के सामने पिता को काटकर मार डाला, बोरे में भरकर छिपाई लाश