गोण्डा : महिला के कपड़े फाड़ने के आरोप में एसएसआई सस्पेंड

                            (नीतू सिंह) 

गोंडा (उ.प्र.)। पति के साथ चल रहे विवाद के मामले में एक महिला ने शनिवार 21 मई को मायके वालों के साथ देहात कोतवाली में जमकर हंगामा किया। उसने कोतवाली में तैनात एसएसआई पर पीटने व कपड़े फाड़ने का आरोप लगाया। कहा कि एसएसआई व दो सिपाही उसकी रिपोर्ट दर्ज करने के नाम पर दस हजार रुपये मांग रहे हैं। मामले की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए एसपी ने तत्काल प्रभाव से आरोपी एसएसआई को सस्पेंड करके एएसपी को मामले की जांच सौंपी है।

कोतवाली देहात क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली महिला का काफी समय से पति से विवाद चल रहा है। शनिवार को पुलिस महिला के भाई को पकड़ ले गई। इस पर वह माता-पिता व मायके के अन्य लोगों के साथ देहात कोतवाली पहुंचकर हंगामा करने लगी। आरोप लगाया कि वह पति के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए दस दिन से देहात कोतवाली के चक्कर काट रही है। मगर एसएसआई केदारराम व दो सिपाही रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए उससे दस हजार रुपये मांग रहे हैं। रकम न देने पर पुलिस ने उसके भाई को पीटकर हवालात में बंद कर दिया। महिला ने कोतवाली परिसर में ही एसएसआई द्वारा पीटने व कपड़े फाड़ने का आरोप लगाया। इसकी जानकारी होते ही एसपी संतोष कुमार मिश्र ने तत्काल प्रभाव से एसएसआई केदारराम को निलंबित कर दिया। एसपी ने कोतवाली परिसर की सीसीटीवी फुटेज समेत पूरे मामले की जांच एएसपी को सौंपी है।

पीड़िता की मां ने आरोप लगाया है कि बेटी की शादी किया था। मेरी बेटी को उसके ससुराल के लोग मारते पीटते थे। गर्भवती होने पर जब ससुराली जनों ने इलाज नहीं कराया, तो 6 माह पूर्व हमने किसी तरह 50 हजार रुपए खर्च कर ऑपरेशन कराया। वह लोग लगातार मेरी बेटी को मारते पीटते व प्रताड़ित करते हैं। इन सब बातों को लेकर शनिवार को मेरा बेटा बहन के ससुराल गया था। जहां पर उन लोगों द्वारा बेटे को बहुत मारा पीटा गया। इसकी फरियाद लेकर उनका बेटा व बेटी जैसे ही कोतवाली पहुंचे तो आरोप है कि वहां पर तैनात एक दरोगा मेरी बेटी को जबरन खींचकर कमरे में ले गए। तथा गलत नियत से उसके कपड़े फाड़ डाला। पीड़िता का कहना है कि दरोगा मुंह में कपड़ा ठूंस कर उसकी बेजती करना चाहता था। हालांकि मां बेटी आरोपी दरोगा का नाम नहीं बता पाई। मीडिया कर्मियों के सवाल किए जाने पर उसने कहा कि दरोगा जी सांवले सांवले लंबे कद के हैं। हालांकि कुछ देर तक हंगामा होने के बाद वीडियो में एक सब इंस्पेक्टर यह पूछते हुए नजर आ रहे हैं कि तुम्हारा कपड़ा किसने फाड़ा तुम्हारी रिपोर्ट लिखी जाएगी।

मामले में पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार मिश्र ने बताया कि एक महिला के संबंध में कोतवाली देहात से सूचना प्राप्त हुई थी। स्वयं मौके पर पहुंचकर जांच किया गया। इनके द्वारा ससुराल वालों पर जनवरी माह में दहेज का मुकदमा लिखाया था। जिसकी विवेचना कर मार्च में ही चार्ज सीट न्यायालय को भेज दी गई थी। महिला अपने मायके में रह रही थी। शुक्रवार 20 मई को उसने प्रार्थना पत्र दिया था कि उनके पति दूसरी शादी कर रहे हैं। आज ही दोनों पक्षों को बुलाया गया था। जिसमें स्पष्ट रुप से बता दिया गया था कि कोई भी पक्ष तब तक शादी नहीं करेगा, जब तक न्यायालय में मुकदमा विचाराधीन है। इस दौरान महिला अपने भाई के साथ ससुराल पहुंच गई। दोनों में वाद विवाद हुआ। इसकी सूचना डायल 112 व थाने को प्राप्त हुई। इसमें उनके पति व भाई को थाने पर लाया गया था। उसके बाद महिला ने पुलिस के एक सब इंस्पेक्टर पर दुर्व्यवहार तथा कपड़े फाड़े जाने का आरोप लगाया था। महिला ने ससुराल वालों पर अब जो आरोप लगाया है उसके संबंध में भी मुकदमा लिख दिया गया है। जिनके ऊपर आरोप लगा है उन्हें अग्रिम जांच रिपोर्ट तक सस्पेंड किया जा रहा है। अपर पुलिस अधीक्षक को जांच सौंपी गई है, कि रास्ते सहित सारे सीसीटीवी फुटेज खंगाल कर 6 घंटे के भीतर यह स्पष्ट करें कि किन लोगों के द्वारा महिला के साथ दुर्व्यवहार किया गया है। जांच रिपोर्ट आने के बाद महिला के साथ दुर्व्यवहार करने वाले चाहे कोई आम आदमी हों या फिर पुलिस के लोग उन पर मुकदमा पंजीकृत कराया जाएगा।

        ➖    ➖    ➖    ➖    ➖

देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं

लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page

सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए

मो. न. : - 9450557628

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अयोध्या : नहाते समय पत्नी को किस करने पर पति की पिटाई

बस्ती : पत्नी और प्रेमी ने बेटी के सामने पिता को काटकर मार डाला, बोरे में भरकर छिपाई लाश

नवनिर्वाचित विधायक और समर्थकों पर एफआईआर