गोरखनाथ मंदिर में हमले की जांच एटीएस को, आतंकी साजिश का अंदेशा

  

                          (विशाल मोदी) 

गोरखपुर। गोरखनाथ मंदिर में कल शाम पीएसी जवानों पर हमले के पीछे आतंकी साजिश भी हो सकती है। पुलिस का कहना है कि घटना के टेरर लिंक से इनकार नहीं किया जा सकता। शासन ने घटना की जांच को एटीएस को दे दी है। हमलावर आरोपी और घायल सुरक्षाकर्मियों का गोरखनाथ चिकित्सालय में उपचार चल रहा है। हमला करने वाले का नाम अहमद मुर्तजा अब्बास है। इसके ऊपर जरुरी धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। हमले की यह घटना कल रविवार तीन अप्रैल की शाम करीब सात बजे की है।

मुंबई से इंजनीयरिंग कर चुके आरोपी मुर्तजा ने गोरखनाथ मंदिर के बाहर सुरक्षा में तैनात जवानों पर धारदार हथियार से हमला किया और अल्ला हू अकबर के नारे लगाते हुए गेट के अन्दर घुस गया था। इस दौरान वह धार्मिक नारे भी लगा रहा था। धारदार हथियार चलाते हुए उसने मंदिर के अंदर भी घुसने की कोशिश की। आरोपी की पहचान अहमद मुर्तजा अब्बासी के रूप में हुई है, जो गोरखपुर का रहने वाला है। एडीजी लॉ एण्ड आर्डर प्रशांत कुमार ने कहा कि केस एटीएस को ट्रांसफर कर दिया गया है और हम टेरर एंगल से इनकार नहीं कर सकते हैं। घटना की विस्तृत जांच शुरू कर दी गई है।'' गोरखपुर के एसएसपी विपिन टाडा ने कहा, ''आरोपी ने धार्मिक नारा लगाते हुए जबरन गोरखनाथ मंदिर में घुसने की कोशिश की। वह अल्ला हू अकबर के नारे लगा रहा था। पुलिसकर्मियों ने जान की परवाह न करते हुए उसे रोक लिया।" टाडा ने कहा कि दो पुलिसकर्मी घायल हुए हैं, उनका इलाज चल रहा है। पकड़े गये हमलावर मुर्तजा के खिलाफ हत्या का प्रयास के अलावा अन्य धाराओं में केस दर्ज किया गया है।
कल शाम अल्ला-हू-अकबर का नारा लगाते हुए दाव (धारदार हथियार) से हमला करते हुए मंदिर में घुसने की कोशिश कर रहे हमलावर मुर्तजा को सुरक्षाकर्मियों ने दाव के साथ दबोच लिया था। गोरखनाथ मंदिर के मुख्य दक्षिणी गेट पर हुई सनसनीखेज वारदात में लहुलूहान दोनों सिपाहियों को गोरखनाथ चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। घटनास्थल से पुलिस को एक बैग मिला है, जिसमें (बांकी) दाव, लैपटाप, पैन कार्ड और एयरलाइंस का टिकट है।
पकड़ा गया आरोपित मोहम्मद मुर्तजा अब्बासी सिविल लाइंस के पार्क रोड स्थित अब्बासी नर्सिंग होम के पास का रहने वाला है। आईआईटी मुंबई से केमिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने वाले मुर्तजा के पिता से पुलिस पूछताछ कर रही है। हमलावर के साथ एक और युवक के होने की आशंका में गोरखनाथ मंदिर और आसपास के इलाके में तलाशी की जा रही है।
गोरखनाथ मंदिर की सुरक्षा में लगी पीएसी की 20वीं बटालियन, आजमगढ़ में तैनात सिपाही गोपाल कुमार गौड़ और अनिल कुमार पासवान की डयूटी थाने के सामने मुख्य दक्षिणी गेट पर थी। कल रविवार की शाम करीब सात बजे मंदिर के उत्तरी, पूर्वी गेट को पारकर बरगदवा की तरफ से आया मुर्तजा मुख्य गेट पर तैनात सिपाही गोपाल कुमार के करीब पहुंचकर उनकी एसएलआर राइफल (स्वचालित हथियार) छीनने लगा। जब तक वो संभलते हमलावर ने कमर में लगा दाव निकालकर हमला कर दिया। शोर सुनकर खड़े सिपाही सुनील दौड़े तो हमलावर ने उनके पैर पर भी वार कर लहुलूहान कर दिया। अन्य सुरक्षाकर्मियों को करीब आता देखकर हमलावर अल्ला-हू-अकबर का नारा लगाते हुए मंदिर गेट के अंदर घुस गया। साइकिल स्टैंड गेट के सामने पिकेट के पास सिपाही अनुराग और अनिल ने उसे दबोच कर हिरासत में ले लिया। हमलावर के पिता मुनीर मुर्तजा के घर पहुंची पुलिस आरोपित के घर पहुंचकर पूछताछ कर रही है।

        ➖    ➖    ➖    ➖    ➖

देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं

लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page

सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए

मो. न. : - 9450557628

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

नवनिर्वाचित विधायक और समर्थकों पर एफआईआर

बस्ती : ब्लॉक रोड पर मामूली विवाद में मारपीट, युवक की मौत

समायोजन न हुआ तो विधानसभा पर सामूहिक आत्महत्या करेंगे कोरोना योद्धा