बसपा राष्ट्रीय पार्टी है, ए और बी टीम नहीं : मायावती

 

बस्ती मण्डल के तीनों जिलों में बसपा प्रत्याशियों को संजीवनी दे गईं बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती

                         (विशाल मोदी) 

बस्ती (उ.प्र.) । बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने आज यहां कांग्रेस, भाजपा और सपा पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा दलितों को गुमराह करने के लिए दुष्प्रचार किया जा रहा है। बसपा एक राष्ट्रीय पार्टी है यह किसी की ए और बी टीम नहीं है। सर्वजन हिताय और सर्वजन सुखाय की तर्ज पर चलने वाली यह पार्टी सभी जाति धर्म एवं वर्ग के लोगों को साथ लेकर चलती है। भाजपा की नीतियां जातिवादी और पूंजीवादी हैं तो सपा एक वर्ग विशेष को लेकर चलती है।

बसपा प्रमुख आज यहां राजकीय इंटर कालेज के मैदान में पार्टी प्रत्याशियों के समर्थन में आयोजित चुनावी सभा को संबेाधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस और सपा दोनों मौका परस्त है। कांग्रेस की गलत नीतियों की सजा जनता आज भी भुगत रही है। कांग्रेस से यूपी के लोग दुखी हैं। भाजपा सरकार में जाति और धर्म को बढ़ावा मिला। अपराध बढ़े हैं। दलित सुरक्षित नहीं रहा। बेरोजगारी बढ़ी है। सरकारी नौकरियों के अवसर खत्म कर निजीकरण को बढ़ावा दिया जा रहा है। इसमें भी आरक्षण व्यवस्था का पालन कराने में सरकार अफसल रही। गरीबों,  मेहनतकश मजदूरों और अल्पसंख्यकों के लिए चलाई जा रही योजनाओं का लाभ नहीं मिला।
मायावती ने कहा कि यूपी से मजदूरों का बड़े स्तर पर पलायन हुआ। हमारी सरकार थी तो गरीबों और मजदूरों को पूरा सम्मान मिला। कानून का राज था। हमारी सरकार बनी तो सुरक्षा और रोजगार के प्रबंध करेंगेे। जाति और धर्म के आधार पर प्रमोशन और उत्पीड़न नहीं होने दिया जाएगा। राजनीतिक द्वेषवश बड़ी संख्या में धरना प्रदर्शन में शामिल होने पर मनोबल तोड़ने के लिए मुकदमें दर्ज कर परेशान किया गया। हमारी सरकार बनने पर इसकी जांच कराई जाएगी और निर्दोष फंसे लोगों से मुकदमे वापस लिए जाएंगे।
मायावती ने कहा कि चुनाव प्रभावित करने के लिए समाज में विद्वेष फैलाने वाली बातें फैलाई जा रही हैं। सपा कांग्रेस और भाजपा के चुनावी घोषणा पत्र पर चुटकी लेते हुए कहा कि बसपा चुनाव में घोषणा पत्र नहीं जारी करती है। हमारी पार्टी कहने की बजाय करने में विश्वास करती है। चार बार मुख्यमंत्री रहते हुए कार्य करके इसे दिखाया है।  कानून व्यवस्था के साथ ही विकास के नए कीर्तिमान बनाए हैं। हमारे ही कार्यों के नाम और स्वरूप बदलकर सपा और भाजपा भुनाने में लगी है। पेंशन को लेकर सरकार से नाराज कर्मचारियों को मरहम लगाया। ऐलान किया बसपा की सरकार बनी तो पुरानी पेंशन को लागू किया जाएगा। समाज के लोगों को सावधान करते हुए कहा कि प्रभावित करने के लिए साम, दाम, दंड, भेद का सहारा लिया जा रहा है। बनावटी ओपिनियन पोल के जरिए लोगों का ध्यान भी भटकाया जा रहा है। इन सबसे बचते हुए तीन मार्च को सारा काम छोड़कर पहले मतदान करें। साथ ही यह भी ध्यान दें कि कोई वोट देने से छूटने न पाए।
बसपा सुप्रीमों ने चुनाव में उतरे प्रत्याशियों को मंच पर जनता के सामने कर जिताने की अपील की और कहा कि अमन चैन और सभी वर्ग एवं धर्मों के सम्मान के लिए बसपा जरूरी है। बाबा साहब भीमराव आंबेडकर और कांशीराम का सपना साकार करना है। उन्होंने कहा कि अपार भीड़ एवं जोश देखकर लगने लगा है कि पांचवी बार बसपा की सरकार बनने जा रही है। बहुजन समाज की मण्डलीय रैली में जिस प्रकार से समर्थकों का रेला राजकीय इण्टर कालेज बस्ती के मैदान में जुटा है उससे विपक्षी दल भी हैरान हो गये हैं। समर्थक इतने की मैदान में जगह नहीं बची और रोडवेज से लेकर मुख्य बाजार गांधीनगर तक जाम का माहौल रहा। मायावती ने बड़े सलीके से अपने प्रत्याशियों, समर्थकों, बूथ अध्यक्षों को सहेजते हुए कहा कि आने वाले 3 मार्च को बसपा के चुनाव निशान पर मतदान करें। रैली में बसपा प्रत्याशी हर्रैया से पूर्व कैबिनेट मंत्री राजकिशोर सिंह, बस्ती सदर से डॉ. आलोक रंजन,  कप्तानगंज से जहीर अहमद जिम्मी, रूधौली से अशोक कुमार मिश्र, महादेवा से लक्ष्मी चंद खरवार, संत कबीर नगर जनपद के खलीलाबाद से आफताब आलम, धनघटा से सन्तोष बेलदार, मेंहदावल से मो. ताबिश खान, सिद्धार्थनगर के डुमरियागंज से अशोक तिवारी, शोहरतगढ से राधारमण त्रिपाठी, इटवा से हरिशंकर सिंह, कपिलवस्तु से कन्हैया प्रसाद कन्नौजिया और बांसी से राधेश्याम पाण्डेय समर्थकों को सहेजते नजर आये।

         ➖    ➖    ➖    ➖    ➖

देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं

लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page

सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए

मो. न. : - 9450557628

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अयोध्या : नहाते समय पत्नी को किस करने पर पति की पिटाई

बस्ती : पत्नी और प्रेमी ने बेटी के सामने पिता को काटकर मार डाला, बोरे में भरकर छिपाई लाश

नवनिर्वाचित विधायक और समर्थकों पर एफआईआर