पीएम ने किया गोरखपुर खाद कारखाना, एम्स और RMRC का लोकार्पण, कहा - लाल टोपी यूपी के लिए रेड अलर्ट

                           (विशाल मोदी) 

गोरखपुर । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज 10 हजार करोड़ की लागत से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ड्रीम प्रोजेक्ट खाद कारखाना, एम्स और बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज के रीजनल मेडिकल रिसर्च सेंटर (आरएमआरसी) का लोकार्पण किया। वर्ष 2016 में प्रधानमंत्री ने ही खाद कारखाना और एम्स की नींव रखी थी। अब उन्होंने खुद अपने हाथों इसे जनता को समर्पित किया। पीएम मोदी ने कहा कि पहले अनाज नहीं मिलता था अब सबके लिए अनाज गोदाम खुल गये हैं। पिछली सरकारों पर निशाना साधते हुए पीएम ने कहा कि लाल टोपी वाले यूपी के लिए रेड अलर्ट हैं यानि खतरे की घंटी हैं।

हमने पहले की सरकारों के दिन भी देखें हैं जब अनाज होते हुए भी गरीबों को अनाज नहीं मिलता था। आज हमने गरीबों के लिए अनाज के गोदाम खोल दिए हैं। हाल ही में पीएम अन्न योजना को होली से आगे तक के लिए बढ़ा दिया गया है। पहले यूपी के कुछ जिले बिजली के मामले में वीआईपी थे लेकिन योगी जी के राज में हर जिला वीआईपी है। सभी को भरपूर बिजली मिल रही है। पहले की सरकारों ने दबंगों को संरक्षण दिया था लेकिन योगी जी ने पुलिस व्यवस्था दुरुस्त कर निवेशकों के लिए द्वार खोल दिए हैं। पीएम ने पिछली सरकारों पर निशाना साधते हुए कहा कि 2017 से पहले की सरकारों ने गोरखपुर एम्स के लिए जमीन देने में आनाकानी की गई। बहुत दबाव पड़ने पर बेमन से उन्होंने एम्स के लिए जमीन दी। ये लोग इस बात को कभी नहीं समझेंगे कि कोरोना के संकट काल में भी विकास के काम डबल इंजन सरकार ने रुकने नहीं दिया। लोहिया और जयप्रकाश नारायण के संस्कारों को ये लोग कब का छोड़ चुके हैं। आज पूरा यूपी जानता है कि लाल टोपी वालों को केवल लाल बत्ती से मतलब रहा है। इन्हें सत्ता से मतलब रहा है, आतंकवादियों पर मेहरबानी दिखाने उन्हें जेल से छुड़ाने के लिए। लाल टोपी वाले यूपी के लिए रेड अलर्ट हैं। यानी खतरे की घंटी हैं।

सस्ती स्वास्थ्य सुविधाएं सबका हक : पीएम मोदी 

पीएम ने कहा कि किसी भी देश में स्वास्थ्य सुविधाएं सस्ती हों तो वहां का विकास होता है। पहले सोचा जाता था कि एम्स जैसे बड़े मेडिकल संस्थान बड़े शहरों के लिए होते हैं लेकिन हमारी सरकार ऐसे संस्थानों को देश के सुदूर क्षेत्रों तक ले जा रही है। इस सदी की शुरुआत तक केवल एक एम्स था, अटल जी ने छह एम्स शुरू हुए और बीते सात सालों में 16 नए एम्स बनाने का काम चल रहा है। हमारा लक्ष्य है कि हर जिले में कम से कम एक मेडिकल कॉलेज हो और हमें खुशी है कि यह काम तेजी से चल रहा है। हाल में आपने मुझे सौभाग्य दिया था कि 9 मेडिकल कॉलेज का एक साथ लोकार्पण करूं। हमारे लिए स्वास्थ्य सुविधा और समृद्धि सर्वोपरि है। विशेषकर हमारी माताओं-बहनों का स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण है। इसके साथ ही घर, शौचालय, बिजली, टीका व अन्य सुविधाएं घर की महिलाओं को मिली है। देश में पहली बार महिलाओं की संख्या पुरुओं से अधिक हुई है। महिलाओं का जमीन व मकान पर मालिकाना हक बढ़ा है। इसमें यूपी टॉप पर है।

पहले गोरखपुर में सिर्फ एक मेडिकल कॉलेज था लोगों को इलाज के लिए बनारस और लखनऊ जाना पड़ता था। जब आपने हमें सेवा का अवसर दिया तो इतना बड़ा एम्स बन गया और रिसर्च सेंटर की अपनी बिल्डिंग भी तैयार है। दिमागी बुखार फैलाने की वजह को दूर करने का काम किया जिसकी मेहनत आज जमीन पर दिख रही है और दिमागी बुखार के मामले 90 प्रतिशत तक कम हो गए हैं। इससे इंसेफेलाइटिस से मुक्ति के अभियान को मजबूती मिलेगी। पीएम मोदी ने कहा कि गन्ना किसानों का गढ़ पूर्वांचल का यह एरिया इथेनॉल उत्पादन के लिए भी महत्वपूर्ण है। पहले खाड़ी का तेल आता था अब खाड़ी का भी तेल आने लगा है। मैं योगी सरकार की सराहना करता हूं कि उन्होंने गन्ना किसानों के लिए अभूतपूर्व काम किया है। 350 रुपये तक मूल्य बढ़ाया। पिछली दो सरकारों ने जितना मिलकर किया योगी जी ने सिर्फ साढ़े चार साल में ही गन्ना किसानों को भुगतान किया।

पीएम ने कहा कि खाद के मामले में आत्मनिर्भरता क्यों जरूरी है उसे कोरोना काल में हमने देखा। अंतरराष्ट्रीय व्यापार बंद होने से खाद के दाम भी अंतरराष्ट्रीय बाजार में बहुत बढ़ गए। लेकिन हमने इसका बोझ किसानों पर नहीं पड़ने दिया। इसी साल खाद के दाम बढ़ने पर हमें तैंतालीस हजार करोड़ रुपये की सब्सिडी बढ़ानी पड़ी। क्योंकि कीमतों का असर हमारे किसानों पर न जाए। विश्व में जहां 60-65 रुपये किलो में खाद बिक रहा है वहीं हम भारत में 10 से 12 गुना कम कीमत पर उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इसके लिए राष्ट्रीय मिशन भी शुरू किया गया है।

  तीन सूत्रों पर हमने किया काम : मोदी

हमने तीन सूत्रों पर काम करना शुरू किया- यूरिया की शत प्रतिशत नीम कोटिंग की और दुरुपयोग रोका। दूसरा लोगों को यूरिया के कार्ड दिए ताकि पता चले कि किस खेत को कैसे खाद की जरूरत है। तीसरा हमने यूरिया उत्पादन बढ़ाया। बंद पड़ चुके कारखानों को हम खोल रहे हैं। एक शुरू हो गया है बाकी अन्य भी आने वाले सालों में भी खुल जाएंगे। जिस तरह से भगीरथ जी गंगा को लेकर आए थे उसी तरह इस खाद कारखाने तक ईंधन को पहुंचाने के लिए ऊर्जा गंगा को लाया गया है। हल्दिया से गोरखपुर तक गैस पाइपलाइन बिछाई गई है। इससे यहां तो ईंधन पहुंचा ही पूर्वी यूपी के कई शहरों में गैस पाइप लाइन से सस्ती गैस मिल रही है। मैंने कहा था कि गोरखपुर यूपी के विकास की धुरी बनेगा जो सच हो रहा है। यह कारखाना रोजगार और स्वरोजगार के अवसर भी देगा। पूर्वांचल में अनेक नए बिजनेस शुरू होंगे।

पीएम ने कहा कि जब मैं मंच पर आया तो मैंने सोचा कि ये भीड़ है, लेकिन जब मैंने दूसरी तरफ देखा तो इतने दूर तक लोग फैले हुए हैं और झंडे हिला रहे हैं कि कुछ कह भी नहीं सकता। आपका प्यार और आशीर्वाद आपके लिए दिन रात काम करने की प्रेरणा देते हैं। पहले मैं 2016 में शिलान्यास करने आया था अब इनके लोकार्पण का भी सौभाग्य आपने मुझे दिया। आज आईसीएमआर के रीजनल सेंटर को भी अपनी बिल्डिंग मिली। साथियों गोरखपुर में फर्टिलाइजर प्लांट और एम्स का शुरू होना कई संदेश दे रही है। जब डबल इंजन की सरकार होती है तो दोगुनी तेजी से काम होता है, आपदाएं भी अवरोध नहीं पैदा कर पातीं। तब परिश्रम भी होता है और परिणाम भी निकलता है। गोरखपुर का आज का आयोजन इस बात का भी सबूत है कि जब नया भारत ठान लेता है तो इसके लिए कुछ भी असंभव नहीं है।

पीएम मोदी ने किया तीनों परियोजनाओं का लोकार्पण 

पीएम मोदी ने स्थानीय भोजपुरी भाषा में अपने संबोधन की शुरुआत करते हुए गोरखपुर की जनता को प्रणाम किया। उन्होंने गोरक्षनाथ पीठ और रामप्रसाद बिस्मिल को भी याद किया। पीएम बोले- आप सब के बहुत बहुत बधाई। तीसरी परियोजना के रूप में पीएम ने बीआरडी मेडिकल कॉलेज में बने रीजनल मेडिकल रिसर्च सेंटर (आरएमआरसी) के अत्याधुनिक नौ लैब का शुभारंभ भी किया। अब गोरखपुर में ही हर तरह के टेस्ट हो सकेंगे। इसके बाद पीएम मोदी ने गोरखपुर एम्स को भी जनता को समर्पित कर दिया। 2014 से पहले गोरखपुर की बदहाल चिकित्सा व्यवस्था को सुदृढ़ करने की ओर यह एक कदम है। इस तरह अब यूपी में दो एम्स बन चुके हैं। पीएम मोदी ने सबसे पहले रिमोट से खाद कारखाने का लोकार्पण किया जिसके साथ ही कारखाने में उत्पादन शुरू हो गया है। तीस वर्षों से यह कारखाना बंद पड़ा था। इन कारखाने से 20 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा। गोरखपुर को बीमारी का गढ़ माना जाता था। पहले मलेरिया, फिर इंसेफेलाइटिस फिर अन्य बीमारियां यहां के लोगों को दशकों तक परेशान करती रहीं। लेकिन पहली बार प्रधानमंत्री ने गोरखपुर एम्स का शिलान्यास 2016 में किया और उद्घाटन भी वही करने जा रहे हैं। आज यूपी 17 करोड़ लोगों को कोरोना वैक्सीन देने जा रहा है। देश के अंदर 130 करोड़ लोगों को वैक्सीन मिल रही है। यहां पहले सिर्फ एक मेडिकल कॉलेज था अब एम्स समेत कई मेडिकल कॉलेज खुल रहे हैं और कई प्रारंभ हो चुके हैं।

   योगी ने पीएम को भेंट किया अंगवस्त्र

सीएम योगी ने मंच पर पीएम मोदी को अंग वस्त्र भेंट किया। सीएम ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि आज पूर्वी यूपी अभिभूत और उद्वेलित है और आनंद का उत्सव मना रहा है क्योंकि पीएम उनके बीच हैं। मैं आप सब की ओर से पीएम मोदी का इस पावन धरती पर स्वागत करता हूं।सीएम योगी ने सभी गणमान्य लोगों का भी अभिवादन किया। सीएम ने कहा आज का ये कार्यक्रम पूर्वी यूपी के उस सपने को साकार करने जैसा है जो नामुमकिन सा हो गया था। पांच-पांच सरकारों ने तीन दशक तक इसे असंभव किया था उसे पीएम मोदी ने उसे अपने नाम की तरह मोदी है तो मुमकिन है जैसे साकार किया है। इसके लिए मैं पीएम का हृदय से अभिनंदन करता हूं। 10 जून 1990 को बंद हो गया था यहां का फर्टिलाइजर कारखाना बंद हो गया था और किसी ने इसकी सुध लेने की कोशिश नहीं की। लेकिन पीएम ने आकर इसका शिलान्यास किया था, अब ये नया कारखाना पहले की तुलना में चार गुना बड़ा है और बनकर तैयार हो गया है। शिलान्यास पीएम के हाथ से हुआ और उद्घाटन भी उनके ही हाथ से हो रहा है।

         ➖    ➖    ➖    ➖    ➖

देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं

लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page

सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए

मो. न. : - 9450557628

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अयोध्या : नहाते समय पत्नी को किस करने पर पति की पिटाई

बस्ती : पत्नी और प्रेमी ने बेटी के सामने पिता को काटकर मार डाला, बोरे में भरकर छिपाई लाश

नवनिर्वाचित विधायक और समर्थकों पर एफआईआर