भाजपा जिलाध्यक्ष पर सबकुछ तबाह करवाने का आरोप, नाजायज फीस वसूलता है पैरामेडिकल कालेज : जिलाध्यक्ष

                           (विशाल मोदी) 

 बस्ती (उ.प्र.) । अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. सीएल कन्नौजिया ने पटेल एसएमएच हास्पिटल एण्ड पैरामेडिकल कॉलेज गोटवा का निरीक्षण किया और राजस्व टीम ने बढ़नी स्थित प्राथमिक विद्यालय के भूखण्ड का निरीक्षण किया। निरीक्षण में कमियां पाये जाने पर नोटिस दी गई है। मामले में जहां भाजपा जिलाध्यक्ष पर गम्भीर आरोप लगाये जा रहे हैं, वहीं जिलाध्यक्ष ने पैरामेडिकल कॉलेज पर नाजायज धन उगाही का आरोप लगाया है। पैरामेडिकल कालेज के प्रबन्धक ने कहा है जिलाध्यक्ष ने अधिकारियों से कहा है कि इनका सबकुछ तबाह कर दीजिए ।

  उक्त हास्पिटल एण्ड पैरामेडिकल कॉलेज में निरीक्षण के समय मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय से निर्गत पंजीकरण प्रमाण पत्र में दिये गये डाक्टर, पैरा मेडिकल स्टाफ उपस्थित पाये गये। निरीक्षण के दौरान पटेल एस.एम.एच. हास्पिटल एण्ड पैरा मेडिकल कालेजों से सम्बंधित अभिलेखों का निरीक्षण किया जो वैध पाया गया। अभिलेखों का रख रखाव सन्तोषजनक न पाये जाने पर कालेज प्रबंधक को चेतावनी दिया कि रख रखाव समुचित रूप से किया जाय। साफ सफाई सन्तोषजनक पाया गया, कोविड प्रोटोकाल का पालन किया जा रहा है।
राजस्व टीम ने गौतम बुद्ध विद्या मन्दिर गोटवा बस्ती के भूखण्ड का निरीक्षण किया। स्कूल की भूमि गाटा सं. - 328 है, जिसका रक्बा 0.163 हे. है। इस दौरान गाटा सं. - 329 में 0.10 हे. हड़वारी खाद गड्ढा भूमि पर विद्यालय द्वारा नाजायज कब्जा किया जाना पाया गया। जिस पर विद्यालय का गेट बाउंड्री और गेट कीपर रुप बना हुआ है। राजस्व टीम ने इस पर विद्यालय प्रबन्धक विजय कुमार को नोटिस देते हुए दस दिन में अवैध कब्जा हटाने को कहा है। ऐसा न करने पर बेदखली की कार्रवाई की जाएगी। यह नोटिस लेखपाल योगेश कुमार ने दी है। राजस्व टीम ने कहा है कि फोन पर मिली शिकायत में कहा गया था कि अवैध कब्जा किया जा रहा है, जबकि इस समय कोई काम नहीं हो रहा है। जो निर्माण हुआ है वह करीब पांच साल पहले का है। इस मामले में विद्यालय एवं पैरामेडिकल कॉलेज के प्रबन्धक ने कहा है कि जिलाध्यक्ष के भतीजे ने यहां से डी फार्मा का कोर्स किया है। उनकी पचहत्तर हजार रु. फीस बाकी है। जिलाध्यक्ष ने यह फीस जमा किए बगैर प्रमाण पत्र देने के लिए दबाव बनाया है। जिसके चलते यह कार्यवाही की जा रही है। उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा जिलाध्यक्ष ने अधिकारियों से कहा है कि इनका सबकुछ तबाह कर दो।
  इस सम्बन्ध में जिलाध्यक्ष ने कहा है कि यहां निर्धारित फीस से अधिक धन उगाही की जा रही है। डीफार्मा में एडमीशन के समय से ही पैरामेडिकल कॉलेज प्रबंधन द्वारा गलत नीतियां अपनाई जा रही हैं। जिसे जानते हैं नाजायज पैसा नहीं ले पाएंगे, उसका एडमीशन नहीं लेना चाहते। प्रवेश के समय सीट फुल हो जाने की बात कहकर पहले टालने की कोशिश करते हुए कहा गया कि आनलाइन करिए अगर उसमें आ जाएंगे तो हो जाएगा। छात्र ने आनलाइन आवेदन किया तो उसका आ गया और कॉलेज को एडमीशन लेना पड़ा। इसके बाद छात्रवृत्ति फार्म भरने के समय छात्र ने कहा हम स्वयं भर दें, तो प्रिंसिपल ने कहा हम भरवाएंगे और उन्होंने भरवाया। नतीजा यह रहा कि फार्म गलत भर गया और उसे छात्रवृत्ति से भी वंचित होना पड़ा। छात्र से साठ हजार की जगह 63 हजार रु. फीस पहले ही पैरामेडिकल कालेज ले चुका है। अब जब वह पास हो चुका है तो प्रमाण पत्र देने के समय 77 हजार रु. और मांगे जा रहे हैं। अध्यक्ष ने कहा कि प्रबन्धक द्वारा पचास हजार रु. चन्दा देने का प्रलोभन दिया जा रहा था, जिसका कोई औचित्य नहीं है। गलतियां छिपाने के लिए उल्टे आरोप लगाए जा रहे हैं।

         ➖    ➖    ➖    ➖    ➖

देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं

लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page

सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए

मो. न. : - 9450557628

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लखनऊ में सैकड़ों अरब के कैलिफोर्नियम सहित 8 गिरफ्तार, 3 बस्ती के

समायोजन न हुआ तो विधानसभा पर सामूहिक आत्महत्या करेंगे कोरोना योद्धा

बस्ती पंचायत चुनाव मतगणना : अबतक घोषित परिणाम