डीएम ने किया उद्यान विभाग बस्ती व बंजरिया का निरीक्षणविभाग

                       (विशाल मोदी) 

बस्ती (सू.वि.उ.प्र.) । जिलाधिकारी श्रीमती सौम्या अग्रवाल ने भारत, इजराइल फल उत्कृष्टता केन्द्र, बंजरिया का निरीक्षण कर इससे जिले के किसानों को जोड़कर फल एंव सब्जी उत्पादन वृद्धि के लिए कार्य करने का निर्देश दिया है। उन्होने 04 करोड़ रूपये से बनने वाले किसान प्रशिक्षण केन्द्र, प्रशासनिक भवन, हास्टल एवं गारमेट्री का निर्माण शुरू कराने के लिए कार्यदायी संस्था को रिमाइंडर भेजने का निर्देश दिया। इस केन्द्र पर उन्होने अतिविकसित इजराइल तकनीक से लगाये गये आम, अमरूद, बेल, नीबू, लीची के बाग का निरीक्षण किया।

(बंजरिया की पौधशाला के निरीक्षण मे डीएम सौम्या अग्रवाल, संयुक्त निदेशक अतुल सिंह व अन्य अधिकारी कर्मचारी) 
 उन्होंने कहा कि समय-समय पर किसानों को इस केन्द्र का भ्रमण कराया जाय। जिलाधिकारी ने 1152 वर्गमीटर में उच्च तकनीक मिट्टीबिहीन सब्जी/फल पौधशाला का निरीक्षण किया। इसकी क्षमता 10 लाख पौध प्रतिवर्ष उत्पादन की है। उन्होने दशहरी, गौरजीत, मल्लिका, लगड़ा, चौसा प्रजाति का, अमरूद में लखनऊ 49, इलाहाबाद सफेदा ललित, श्वेता, वी0एन0आर0, लालिमा, पन्त प्रभात के बाग का निरीक्षण किया।
      (डीएम को अमरुद बाग का निरीक्षण कराते संयुक्त निदेशक) 
 उन्होंने पिछले वर्ष कोरोना काल में लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए मनरेगा योजना से रोपित आम 1200, अमरूद 1200, बेल 400, नीबू 1200, लीची 400 पौधे का बाग का निरीक्षण किया। उन्होने निर्देश दिया कि मनरेगा से ही मजदूरों को लगाकर बाग की साफ-सफाई, निराई - गुड़ाई करायें। 

निरीक्षण में उन्होंने आम्रपाली में प्लास्टिक एवं फोम की बैगिंग देखा। इस संबंध में संयुक्त निदेशक उद्यान डाॅ. अतुल कुमार सिंह ने बताया कि आम्रपाली की फसल 15 जुलाई तक तैयार होती है और उस समय बारिश होने से फल खराब हो जाते है। फलों को बचाने के लिए यह बैगिंग करायी जा रही है।

(बंजरिया में डीएम को बंजरिया में कंप्यूटराइज सिंचाई संयंत्र के बारे में बताते जेडी अतुल सिंह) जिलाधिकारी ने केन्द्र पर स्थापित आटोमैटिक कम्प्यूटराइज सिंचाई कंट्रोल रूम का निरीक्षण किया। संयुक्त निदेशक ने बताया कि इस कंट्रोल रूम से जमीन में तथा ड्रिप सिचाई से नियंत्रित किया जाता है। 50 एकड़ क्षेत्र में फैले इस केन्द्र के प्रत्येक हिस्से में अलग-अलग सिंचाई किया जा सकता है। इसमें एक एप स्थापित है। 
           (बस्ती मुख्यालय पर आधुनिक फूल पौधशाला)   जिलाधिकारी ने थाइलैण्ड बेरायटी का अमरूद (वी0एन0आर0) ड्रेगन फ्रूट, स्ट्रावेरी, पाइन एप्पल की नयी बेरायटी उत्पादित करने का निर्देश दिया। संयुक्त निदेशक उद्यान ने बताया कि सितम्बर, अक्टूबर एवं नवम्बर माह में यहां पर सब्जी के पौधे के लिए भारी तादाद में लोग आते है। यहां से आम के पौधे ले जाकर गोण्डा, बलरामपुर, बाराबंकी बागीचा लगाते है। पूरे साल फलों के पौधों की डिमाण्ड बनी रहती है। उन्होंने बताया कि बंजरिया तथा बस्ती के उद्यान से प्रतिवर्ष लगभग 60 लाख रूपये राज्य सरकार को राजस्व प्राप्त होता है।
(बस्ती में औद्यानिक प्रयोग एवं अनुसंधान केन्द्र पर फूल पौधशाला का निरीक्षण करतीं डीएम सौम्या अग्रवाल साथ में संयुक्त निदेशक अतुल सिंह व पौधशाला प्रभारी राकेश गौड़ व अन्य) उन्होंने मुख्यालय पर स्थित औद्यानिक प्रशिक्षण केन्द्र का निरीक्षण किया। यहां पर उन्होने 45 साल पुराने आम के पेड़ो को हटवाकर नये बेरायटी के पौधे लगवाने का निर्देश दिया। यहां उन्होने प्रयोगशाला, पौधशाला, ओपेन जिम का निरीक्षण किया। उन्होने मशरूम प्रयोगशाला का निरीक्षण किया। इसके प्रभारी विवके कुमार ने बताया कि 10 कुन्तल मशरूम का बीज पैदा करके किसानों को उपलब्ध कराया जाता है। जिलाधिकारी ने कहा कि मशरूम की डिमाण्ड और इसकी पौष्टिकता को देखते हुए इसको निजी क्षेत्र में बढावा दिया जाय तथा युवाओं को बैंक से लोन दिलाकर रोजगार दिया जाय।
(मुख्यालय पर स्थित सीड ग्रेडर संयंत्र का निरीक्षण व इसके बाारे मेंं जानकारी देते ज्वाइंट डायरेक्टर)

  जिलाधिकारी ने उद्यान विभाग के नये एंव पुराने सीडग्रेडर संयत्रों का निरीक्षण किया। यहां पर प्रभारी ने बताया कि मटर, मूली, भिन्डी एवं अन्य सब्जियों के बीज संशोधित करके किसानों को उपलब्ध कराया जाता है। उन्होने निर्देश दिया कि दोनों भवनों की एक सप्ताह में साफ-सफाई करायी जाय, भवन मरम्मत का इस्टीमेट तैयार किया जाय। निरीक्षण के दौरान जिला उद्यान अधिकारी राजेन्द्र यादव, वैज्ञानिक सुरेश सिंह, डाॅ0 आरबी सिंह, धीरेन्द्र पाण्डेय उपस्थित रहे।

          (मुख्यालय पर स्थित सीड ग्रेडर संयंत्र का निरीक्षण)

 उद्यान विभाग परिसर का निरीक्षण करते हुए जिलाधिकारी ने मण्डलीय खाद्य प्रसस्करण कार्यालय एवं केन्द्र का भी निरीक्षण किया। यहाॅ पर उपस्थित कर्मचारियों ने बताया कि खाद्य प्रसंस्करण अधिकारी दुर्गेश श्रीवास्तव सिद्धार्थ नगर गये है। जिलाधिकारी ने जब कार्यालय के साथ-साथ केन्द्र का निरीक्षण किया तो वहाॅ पर सिलेण्डरयुक्त गैस चुल्हाॅ, खाना बनाने की सामग्री तथा बर्तन आदि मेज पर सजे पाये गये। जिलाधिकारी के पूछने पर कोई भी कर्मचारी समुचित जबाव नही दे पाया। जिलाधिकारी ने इस स्थिति पर नाराजगी व्यक्त करते हुए खाद्य प्रसंस्करण अधिकारी का स्पष्टीकरण तलब करने का निर्देश दिया तथा केन्द्र का तत्काल सफाई कराने का भी निर्देश दिया। 

            ➖     ➖     ➖     ➖     ➖

देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं

लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page

सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए

मो. न. : - 9450557628

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बस्ती के पूर्व सीएमओ ने गंगा में लगाई छलांग

लॉक डाउन पूरी तरह खत्म

बस्ती जिले में 35 नये डॉ. तैनात