कोविड में भी मजबूती से फर्ज निभा रहीं 3675 आंगनवाड़ी

                          (नीतू सिंह) 

गोरखपुर। जिले की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता पोषण कार्यक्रमों में योगदान के साथ-साथ कोविड ड्यूटी का दोहरा फर्ज भी निभा रही हैं। हालांकि आंगनबाड़ी केंद्र बंद चल रहे हैं लेकिन घर-घर ड्राई राशन पहुंचाने का कार्य जारी है। जिले की 3675 आंगनबाड़ी कार्यकर्ता न केवल ड्राई राशन वितरित कर रही हैं, बल्कि स्वास्थ्य विभाग से जुड़ीं आशा कार्यकर्ताओं के साथ कंधे से कंधा मिला कर कार्य कर रही हैं। कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए लोगों को कोरोना के प्रति जागरूक करने में अहम भूमिका निभा रही हैं। जिला कार्यक्रम अधिकारी हेमंत सिंह ने बताया कि एकीकृत बाल विकास कार्यक्रम (आईसीडीएस) के तहत आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के अलावा बाल विकास परियोजना अधिकारी (सीडीपीओ), मुख्य सेविकाएं व सहायिकाएं भी कोविड ड्यूटी में योगदान दे रही हैं।

जिला कार्यक्रम अधिकारी का कहना है कि सात सीडीपीओ, 62 मुख्य सेविकाएं मॉनीटरिंग के कार्य में, जबकि 3675 आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के साथ 3500 सहायिकाएं भी कोविड ड्यूटी में योगदान दे रही हैं। टीके की दोनों डोज ले चुके कार्यकर्ताओं को भी सतर्कता के साथ क्षेत्र में कार्य करने का दिशा-निर्देश दिया गया है। सभी से कहा गया है कि दो गज की दूरी, मॉस्क के उपयोग और हाथों की स्वच्छता के नियम का सख्ती से पालन करते हुए कार्य करें। कोविड ड्यूटी में मुख्यतया निगरानी समिति और घर-घर सर्वे में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता योगदान दे रही हैं। बीमार लोगों को चिन्हित करवाने, उन्हें कोविड जांच के लिए प्रोत्साहित करने, आइसोलेट करने और आशा कार्यकर्ता के साथ मेडिकल किट की उपलब्धता सुनिश्चित करने में मदद कर रही हैं। इसके अलावा जो भी ड्राई राशन वितरण के लिए आता है, उसे भी कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए वितरित करवाया जा रहा है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-परिवार की समुचित देखभाल के साथ ही वह कोविड को रोकने में दोहरी भूमिका निभाती नजर आ रहीं हैं। 

समिति ने भी सराही आंगनाबाड़ी की भूमिका

खजनी ब्लॉक के ग्राम पंचायत कटघर में प्रधान आलोक सिंह की अध्यक्षता में गत दिनों हुई निगरानी समिति की बैठक में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता राजकुमारी की भूमिका सराही गयी। बैठक के दौरान प्रधान ने समिति के लोगों से कहा कि अगर किसी को दवा खरीदने में दिक्कत आए तो सूचित करें ताकि उसकी मदद हो सके। बैठक में सर्दी-जुकाम वाले हर मरीज को चिन्हित कर उपचार कराने पर विशेष तौर से चर्चा हुई। बैठक में समिति की तरफ से ग्राम विकास अधिकारी विजय कुमार गुप्ता, मनरेगा जूनियर इंजिनियर अजय श्रीवास्तव, लेखपाल राजीव रंजन, कोटेदार राजन सिंह, पंचायत मित्र सुनील कुमार, महिला सदस्य कुसुम, अंजू, प्रभा, संगीता और अन्य ग्रामीणों ने स्वास्थ्य विभाग और आईसीडीएस की भी सराहना की और हर संभव सहयोग करने का निर्णय लिया।

           ➖     ➖     ➖     ➖     ➖

देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं

लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page

सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए

मो. न. : - 9450557628

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बस्ती के पूर्व सीएमओ ने गंगा में लगाई छलांग

लॉक डाउन पूरी तरह खत्म

बस्ती जिले में 35 नये डॉ. तैनात