हापुस आम पर संकट के बादल

 

(वन्दना शुक्ला) 

कोंकण के हापुस आमों की सबसे पहले बाजारों में आवक होती है और यहां के इन आमों की सबसे अधिक मांग सिंगापुर, मलेशिया और खाड़ी के देशों में होती है। महाराष्ट्र के कोकण अंचल में प्रसिद्ध हापुस आमों का कारोबार कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गया है। इसके पहले बरसात जैसी प्राकृतिक आपदाओं के कारण इस वर्ष हापुस आमों की पैदावार में भी गिरावट आई है। फिलहाल कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण रखने की कोशिशों के चलते विदेशी विमान सेवाएं प्रभावित हुईं हैं जिससे हर वर्ष बड़ी मात्रा में होने वाले हापुस आमों के विदेशी निर्यात में भी कमी आ रही है।

इसके पीछे वजह यह है कि विदेशी यात्रा विमानों से माल अन्य देशों में पहुंचाना इस क्षेत्र से जुड़े कारोबारियों के लिए सस्ता पड़ता है। लेकिन, इसके उलट यदि हापुस कारोबारी अपना माल, मालवाहक विमानों से विदेश पहुंचाएंगे तो यह सेवा उनके लिए महंगी पड़ेगी। ऐसे में इस बार हापुस आमों का विदेशी निर्यात अपेक्षा से काफी कम हो गया है। इसका प्रभाव कारोबारियों के साथ-साथ हापुस उत्पादक किसान और बागवानों पर भी पड़ रहा है।

हापुस की पैदावार में किस हद तक गिरावट

महाराष्ट्र में रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग जिले हापुस आम की पैदावार के प्रमुख क्षेत्र हैं। इस वर्ष अधिक बरसात और तपिश के कारण हापुस आमों की पैदावार प्रभावित हुई है। इस बारे में सिंधुदुर्ग जिले के देवगड गांव के एक हापुस आम उत्पादक किसान राकेश वडगेकर बताते हैं कि पिछले साल के मुकाबले इस साल हापुस आमों की संख्या 40 प्रतिशत से भी ज्यादा घट गई है। वजह यह है कि इस साल मार्च से ही कई स्थानों पर तापमान 34 से 42 डिग्री तक रहा है। हापुस ज्यादा गर्मी सहन नहीं कर पाता है और पकने से पहले ही पेड़ से टूटकर नीचे गिर जाता है।

राकेश के मुताबिक, "पिछले साल मेरे सात सौ पेड़ों में चार से पांच हजार तक आम हुए थे। इस साल दो से ढाई हजार तक ही आम होंगे। पिछले साल से आमदनी भी करीब आधी घट सकती है। हालांकि, इस समय 200 रुपए किलो के हिसाब से आम बिक रहा है, लेकिन पैदावार काफी कम होने से नुकसान तो उठाना ही पड़ेगा। फिर मई महीने में तमिलनाडु, केरल और कर्नाटक से बाजार में आने वाले आमों की आवक काफी बढ़ जाती है, इसलिए अपने आम का दाम नीचे आ जाएगा।"

बता दें कि हापुस कीमत की दृष्टि से देश के सबसे महंगे आमों में गिना जाता है। कोल्हापुर में हापुस आम के निर्यातक कारोबार नंदकुमार वलांजु इस बारे में बताते हैं, "कोंकण के आम की विशेषता यह है कि यह फरवरी-मार्च में ही आ जाता है। इसलिए देश-विदेश में आम के शौकीन इसकी ज्यादा से ज्यादा कीमत देकर इसे खरीदते हैं। फिर यह पकने के हफ्ते भर तक भी खराब नहीं होता है और इसलिए निर्यात के लिहाज से भी अच्छा होता है। सौ से तीन सौ ग्राम तक का एक हापुस आम केसरी रंग का होता है और स्वाद में भी अत्यंत मीठा होता है।

विदेशों में निर्यात न होने से सबसे ज्यादा घाटा

दकुमार हापुस आमों के निर्यात का गणित समझाते हुए बताते हैं कि आमतौर पर हर वर्ष कोंकण के हापुस आमों से होने वाली कुल आमदनी का 60 प्रतिशत हिस्सा खाड़ी, एशियाई, यूरोपीय और अमेरिका महाद्वीपों के कई देशों के निर्यात से प्राप्त होता है। जाहिर है कि हापुस आमों का जितना ज्यादा विदेशी निर्यात होता है उतना ज्यादा मुनाफा इस क्षेत्र से जुड़े कारोबारी, किसान और बागवानों को मिलता है और उनके हाथों में अधिक से अधिक पैसा आता है।

हालांकि, कोंकण के प्रसिद्ध हापुस आमों की आवक बाजार में इस समय चालू है। इस वर्ष फरवरी के दूसरे सप्ताह से बाजार में हापुस आम काफी कम मात्रा में आए, लेकिन 15 मार्च के बाद बड़ी संख्या में इनकी बिक्री चल रही है। देश के विभिन्न क्षेत्रों में हापुस आमों का वितरण करने के लिए किसानों का माल कोंकण से पहले राज्य की राजधानी मुंबई स्थित एपीएमसी (कृषि उपज विपणन समिति) थोक मंडियों के माध्यम से खरीदी करके संग्रहित किया जाता है। इसके बाद यहां से देश के विभिन्न भागों में हापुस आम पहुंचाया जाता है। मुंबई से विदेशों में सबसे ज्यादा हापुस आमों की बिक्री समुद्री मार्गों से जहाजों के जरिए सऊदी अरब, आबू धाबी और दुबई में किया जाता है। लेकिन, इस वर्ष फरवरी से इन देशों के लिए होने वाले हापुस आमों का निर्यात काफी सीमित हो चुका है। इसके बाद हापुस आमों का सबसे अधिक निर्यात सिंगापुर और मलेशिया जैसे एशियाई देशों में होता है। खाड़ी और एशियाई देशों के बाद यूरोपीय और अमेरिका के कई देशों में कोंकण के आमों की बड़ी मांग होती है।

इसलिए विदेशी निर्यात से जुड़े कारोबारी किसानों से उच्च कोटि का माल लेकर उसे ऊंची कीमतों पर विदेशों में बेचते हैं। नवी मुंबई में हापुस आमों के निर्यात से जुड़े कारोबारी युनूस बागवान के मुताबिक, "यात्री विमान से विदेशों में हापुस आम पहुंचाने पर निर्यातक कारोबारी को प्रति एक दर्जन माल पर 60 से 65 रुपए किराया देना पड़ता है। लेकिन, यही माल यदि वह मालवाहक विमान से भेजे तो उसके किराए की लागत प्रति एक दर्जन हापुस आमों पर दोगुनी या उससे भी ज्यादा यानी 120 से 140 रुपए तक हो जाती है। इसलिए कोरोना-काल में  विदेशी यात्रा विमान सेवा प्रभावित होने से निर्यात से जुड़े कई कारोबारी मालवाहक विमानों से हापुस आमों का माल पहुंचाने को लेकर उत्साहित नहीं हैं। "देखा जाए तो पिछले वर्ष भी कोरोना लॉकडाउन के कारण कोंकण के हापुस आम उत्पादक किसान और बागवानों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा था। तब उन्हें राज्य और राज्य के बाहर हापुस आमों की मार्केटिंग खुद करनी पड़ी थी। उस समय हापुस आम उत्पादक और बागवानों को महाराष्ट्र राज्य विपणन निगम ने सहायता प्रदान की थी।

इस बारे में सिंधुदुर्ग के हापुस उत्पादक किसान राकेश वडगेकर कहते हैं, "पिछली बार फरवरी-मार्च तक इस किस्म के आम की एक बड़ी संख्या का निर्यात किया जा चुका था। देखें तो इस वर्ष भी कई संगठनों ने हापुस आमों की मार्केटिंग को लेकर कुछ योजनाएं बनाई हैं, लेकिन देश में विमान सेवा प्रभावित होने से हापुस आम से सीधे जुड़े उत्पादक और कारोबारियों को नुकसान उठाना पड़ रहा है।" राकेश साथ ही यह भी मानते हैं कि इससे सबसे ज्यादा नुकसान उन उत्पादक और कारोबारियों को हो रहा है जो हापुस आमों की ही खरीदी-बिक्री पर निर्भर हैं और जिनकी ज्यादा कमाई हापुस आमों के विदेशी निर्यात से जुड़ी है। यूनुस बागवान बताते हैं, "कोरोना के कारण बड़े पैमाने पर होने वाला निर्यात अब बहुत सीमित हो गया है। हापुस आमों का निर्यात इस बार बहुत ज्यादा घट गया है। खाड़ी देशों में निर्यात करने से हमें सबसे ज्यादा मुनाफा होता था, लेकिन इस साल वहां से भी मांग कम हो गई है। फिर विमान परिवहन की लागत कुछ दिनों में फिर बढ़ सकती है। कारण यह है कि किराया बढ़ाया जा सकता है। खाड़ी के अलावा अन्य देशों की भी बात करें तो सभी देशों से इस साल हापुस आमों की मांग घटी है। इसलिए यह साल हमारे लिए ठीक नहीं चल रहा है।"

          ➖     ➖     ➖     ➖     ➖

देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं

लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page

सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए

मो. न. : - 9450557628

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बस्ती के पूर्व सीएमओ ने गंगा में लगाई छलांग

लॉक डाउन पूरी तरह खत्म

बस्ती जिले में 35 नये डॉ. तैनात