बस्ती के एसपी बदले, कोतवाल और दरोगा सस्पेंड

              (बृजवासी शुक्ल) 

बस्ती (उ.प्र.) । जिले के बहुचर्चित पोखरभिटवा मामले में आज शासन ने बस्ती के एसपी हेमराज मीणा को हटाकर डीजीपी मुख्यालय में एसपी के पद पर तैनाती दी है। एसपी अभिसूचना मुख्यालय आशीष श्रीवास्तव को एसपी बस्ती के पद पर भेजा गया है। इसके साथ ही बस्ती कोतवाल इंस्पेक्टर रामपाल यादव तथा छात्रा को परेशान करने के आरोपित दारोगा दीपक सिंह को निलंबित किया गया है। 

 बस्ती में एक युवती ने दरोगा दीपक सिंह के ऊपर फोन और व्हाट्सएप के जरिए अश्लील हरकत करने और उसकी असहमति के बाद उसके और उसके परिजनों के ऊपर आठ फर्जी केस दर्ज करने का आरोप लगाया है। मामला महिला आयोग में गया था। जांच पड़ताल के बाद हुई महिला आयोग की सख्ती से अभी तीन दिन पूर्व मामला काफी गर्म हो गया और शासन के संज्ञान में भी आ गया। एडीजी गोरखपुर अखिल कुमार ने आज इस मामले में बस्ती पहुंचकर प्रारंभिक जांच की। ये पोखरभिटवा गांव भी गये, और हर पहलू पर बारीकी से पड़ताल की । एडीजी गोरखपुर के आदेश पर कोतवाल रामपाल यादव तथा तथा एसआई दीपक सिंह को निलंबित कर दिया गया। 
 जून 2019 मे पोखरभिटवा गांव में एक रास्ते के विवाद में मौके पर गयी राजस्व विभाग की टीम और पुलिस टीम के ऊपर कुछ लोग हमलावर हो गये थे। मामले में राजस्व और पुलिस टीम पर घर की महिलाओं और लड़कियों सहित कई पुरूष सदस्यों द्वारा बुरी तरह हमला करने, बंधक बनाने और तत्कालीन सोनूपार चौकी इंचार्ज दीपक सिंह की सर्विस रिवाल्वर छीन लिये जाने का मामला भी सामने आया था। मामले का आश्चर्यजनक पहलू यह भी है कि खाकी को शर्मसार करने वाला यह आरोप लगाने वाली युवती उसी परिवार से सम्बन्धित बताई जा रही है, जिस पर सरकारी कार्य में बाधा डालने, पुलिस व राजस्व को बंधक बनाकर मारने पीटने और दरोगा की रिवाल्वर छीनने का आरोप था। इस मामले में कई व्यक्तियों के खिलाफ कोतवाली में एफ.आई.आर. भी दर्ज हुई थी। अब फिर सुर्खियों में होने बाद मामले में तरह तरह की चर्चाएं व्याप्त हैं। 

         ➖    ➖    ➖    ➖    ➖

देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं

लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page

सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए

मो. न. : - 9450557628

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अयोध्या : नहाते समय पत्नी को किस करने पर पति की पिटाई

बस्ती : पत्नी और प्रेमी ने बेटी के सामने पिता को काटकर मार डाला, बोरे में भरकर छिपाई लाश

नवनिर्वाचित विधायक और समर्थकों पर एफआईआर