वैदिक मंत्रोच्चार के बीच डीपीएस पचपेड़िया में मनाया गया बसंतोत्सव

                       (शैलेन्द्र पाण्डेय) 

बस्ती (उ.प्र.) । बसंत पंचमी का पर्व हिन्दी कैलेंडर के माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को पड़ता है । इस दिन ज्ञान की देवी मां सरस्वती की पूजा की जाती है। बसंत के आगमन का संकेत खेल-खलिहान देने लगते हैं। खेतों में सरसों के पीले फूल खिल जाते हैं। उनको देखकर ऐसा लगता है कि मानो पूरी धरती ने पीले चादर को ओढ़ लिया हो। प्रकृति की यह सुनहरी छटा देखते ही बनती है।   

 उक्त बातें दिल्ली पब्लिक सीनियर स्कूल पचपेड़िया के प्रबन्धक अमर मणि पाण्डेय और निदेशक अर्चना पाण्डेय ने कहीं।दिल्ली पब्लिक सीनियर स्कूल में आज मंगलवार को बसन्तोत्सव पर्व धूमधाम से मनाया गया। स्कूल प्रबंधक अमरमणि पांडेय और निदेशिका श्रीमती अर्चना पांडेय ने समस्त विद्यालय परिवार के साथ विद्या की अधिष्ठात्री माँ सरस्वती का पूजन वंदन किया। विद्यालय की प्रधानाचार्या डॉ ऋतंभरा तिवारी ने बसन्त पंचमी की शुभकामनाएं देते हुए बताया कि एक मार्च से कक्षाएं पुनः संचालित होंगी।   

 उन्होंने बताया कि सरकारी निर्देशानुसार कोविड-19 सम्बन्धी सभी प्रबंध पूरे हो चुके हैं। अभिभावकों को एक सहमति पत्रक पर हस्ताक्षर करके अपने पाल्य को विद्यालय परिसर में भेजना होगा। इस अवसर पर अविनाश श्रीवास्तव द्वारा भजन कार्यकम का भी सुंदर आयोजन हुआ। विद्यालय के कुछ छात्रों साक्षी पांडेय, अक्षत चौधरी, रिया पटेल, साक्षी राव और दुर्गमा ने स्वतः स्फूर्त ही अपने नृत्य एवं गायन कार्यक्रम की प्रस्तुति की।  

उपस्थित अतिथियों और अभिभावकों ने कार्य्रकम की सराहना की और प्रसाद ग्रहण किया। इस अवसर पर व्यापारी नेता सुभाष शुक्ल, राम विनय पाण्डेय, बृजेश सिंह मुन्ना, राजन गुप्ता, सौरभ दूबे, जयेश सिंह मुन्ना, रमेश सिंह, अयोध्या प्रसाद कसौधन, पुनीत ओझा, भूपेन्द्र सिंह चौधरी सहित तमाम बुद्धिजीवी व गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

          ➖    ➖    ➖    ➖    ➖

देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं

लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page

सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए

मो. न. : - 9450557628

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लखनऊ में सैकड़ों अरब के कैलिफोर्नियम सहित 8 गिरफ्तार, 3 बस्ती के

बस्ती : ब्लॉक रोड पर मामूली विवाद में मारपीट, युवक की मौत

समायोजन न हुआ तो विधानसभा पर सामूहिक आत्महत्या करेंगे कोरोना योद्धा