पुलिस को जूते की नोक पर रखने वाला सपा जिलाध्यक्ष भूमिगत


           (घनश्याम मौर्य)


फर्रुखाबाद (उ.प्र.) । समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष नदीम फारूकी का एक वीडियो सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में फारूकी एक जनसभा में पुलिस को जूते की नोक पर रखने की बात कह रहे हैं। फारूकी जेल से छूटने के बाद शमसाबाद कस्बे में समर्थकों के साथ पहुंचे। यहां उन्होंने भाजपा नेताओं पर झूठा मुकदमा दर्ज कराने का आरोप लगाया और कहा कि गर्व की बात है सीएम ने गिरफ्तार कराया, पुलिस को मैंने जूते की नोंक पर रखा है। हालांकि इसके बाद उनके मुकदमा ऊपर फिर मुकदमा दर्ज हो गया है और दो लोग गिरफ्तार हो गये हैं। जिलाध्यक्ष की तलाश की जा रही है। 



समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष ने जेल से जमानत पर छूटने के बाद कहा था “गर्व की बात है मुख्यमंत्री ने मुझे अरेस्ट कराया। आप लोगों की दुआएं थी, बुजुर्गों की दुआएं थी, नौजवानों का हौसला था, वकीलों का साथ था। पुलिस का भी मैं आज पहली बार शुक्रिया अदा करता हूँ कि उन्होंने भी हमारा सम्मान रखा 3 दिन तक। पहली बार नहीं तो पुलिस को मैंने हमेशा जूते की नोंक पर रखा है। मुझे एक ही डर था जेल जाने का वह डर अब हमेशा के लिए खत्म हो गया।”


 आपत्तिजनक भाषण देने का आरोप छेड़छाड़, जानलेवा हमले आदि धाराओं में जमानत पर जेल से छूटने वाले सपा जिलाध्यक्ष नदीम अहमद फारूकी व उनके समर्थकों को कस्बे में जुलूस निकालकर नारेबाजी करना महंगा पड़ गया है। नदीम फारूकी व उनके 500 समर्थकों के खिलाफ संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज करने के बाद पुलिस ने ताबड़तोड़ छापेमारी शुरू कर दी है। दोपहर तक पुलिस ने उनके दो समर्थकों को गिरफ्तार कर लिया है। सपा जिलाध्यक्ष भूमिगत हो गये हैं, और उनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने प्रयास तेज कर दिये हैं।  



शमसाबाद कस्बे की एक महिला ने सपा जिलाध्यक्ष नदीम फारूकी के खिलाफ छेड़छाड़ व जानलेवा हमले का मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने इस मामले में सपा जिलाध्यक्ष नदीम फारूकी को जेल भेज दिया था। चार नवंबर को सपा जिलाध्यक्ष नदीम फारूकी जमानत पर छूटे। 



दो दिन में ही जमानत हो जाने पर उत्साहित जिलाध्यक्ष नदीम फारूकी के समर्थक हुजूम बनाकर जिला जेल पहुंचे। वहां से नारेबाजी करते हुए सपा जिलाध्यक्ष को माला पहनाकर कस्बे में ले गए थे। आरोप है कि वहां जिलाध्यक्ष व उनके समर्थकों ने सड़क जाम कर जमकर नारेबाजी की। जिलाध्यक्ष ने समर्थकों को संबोधित भी किया। उसमें आपत्तिजनक बयान भी दिए। पुलिस और मुख्यमंत्री के खिलाफ आपत्तिनजक भाषण देते हुए जमकर नारेबाजी की। इस दौरान सड़क जाम हुई और लोगों में भय फैल गया। इस मामले में मोहल्ला दलमीर खां निवासी पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष विजय गुप्ता ने सपा जिलाध्यक्ष नदीम अहमद फारूकी, सैदवाड़ा निवासी अब्दुल्ला, कोटला निवासी गुड्डू, नहीम, रिहान, रेहान, इमली दरवाजा निवासी आजम, उनके पिता मसूद, साकिब, शेरवानी टोला निवासी मेराज, एजाज, काजीटोला निवासी मुसब्बर, इलू, गुलजार, अद्दपुर निवासी धर्मेंद्र कुमार, शकील उर्फ पप्पू, नन्ना और गढ़ी निवासी आदिल पठान को नामजद और 500 अज्ञात लोगों के खिलाफ धारा 147, 149, 153-ए, 269, 270, 188, 504, 506, 341, 152, 124-ए और 7 सीएलए व 3 महामारी अधिनियम में मुकदमा दर्ज किया था।


         ➖    ➖    ➖    ➖    ➖


देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं


लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page


सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए


मो. न. : - 9450557628


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लखनऊ में सैकड़ों अरब के कैलिफोर्नियम सहित 8 गिरफ्तार, 3 बस्ती के

समायोजन न हुआ तो विधानसभा पर सामूहिक आत्महत्या करेंगे कोरोना योद्धा

बस्ती पंचायत चुनाव मतगणना : अबतक घोषित परिणाम