एसएसपी एसटीएफ हटे, सुधीर सिंह नये एसएसपी

(सुधीर शुक्ल) 


लखनऊ । कानपुर कांड में योगी सरकार ने मंगलवार को एक और कार्रवाई करते हुए एसटीएफ के डीआईजी अनंत देव का ट्रांसफर कर दिया है। अनंत देव समेत चार आईपीएस अधिकारियों का तबादला किया गया है। अंनत देव का नाम कानपुर एनकाउंटर में आया था। उन पर सीओ देवेंद्र सिंह की शिकायत के बावजूद विकास दुबे पर कोई कार्रवाई नहीं करने का आरोप है।  



अनंत देव को लखनऊ एसटीएफ से ट्रांसफर कर मुरादाबाद भेजा गया है। उन्हें वहां पीएसी में पुलिस उपमहानिरीक्षक की जिम्मेदारी दी गई है। अनंत देव के अलावा जिन आईपीएस अधिकारियों के ट्रांसफर हुए हैं, उनके नाम अमित पाठक, प्रभाकर चौधरी और सुधीर कुमार सिंह हैं। आईपीएस अमित पाठक को वाराणसी का एसएसपी बनाया गया है। अभी वह मुरादाबाद में तैनात थे। इसके साथ ही वाराणसी के एसएसपी प्रभाकर चौधरी का तबादला मुरादाबाद किया गया है। सुधीर कुमार सिंह को एसटीएफ एसएसपी बनाया गया है। वह पीएसी आगरा में तैनात थे। 


बिकरू गांव में आठ पुलिसकर्मियों की निर्मम हत्या के बाद विकास दुबे और पुलिस की दोस्ती की परतें खुलने लगी थीं। इसकी आंच कानपुर के पूर्व एसएसपी अनंत देव तक पहुंचीं। आईजी लखनऊ की जांच में अनंत देव पर भी शक जताया जा रहा था। चौबेपुर के निलंबित एसओ के खिलाफ शहीद सीओ देवेंद्र मिश्र की रिपोर्ट सही पाई गई है। जांच में इस बात के भी प्रमाण मिले हैं कि रिपोर्ट अनंत देव को भेजी गई थी। जल्द ही उनसे पूछताछ भी हो सकती है।   



मंगलवार को आईजी लखनऊ लक्ष्मी सिंह बिल्हौर सीओ के दफ्तर में जांच करने पहुंचीं तो उन्हें एक नहीं, बल्कि आधा दर्जन से ज्यादा ऐसी रिपोर्ट के बारे में जानकारी मिली जो देवेंद्र मिश्र ने तत्कालीन एसएसपी अनंत देव को एसओ चौबेपुर विनय तिवारी के खिलाफ भेजी थीं। लक्ष्मी सिंह ने विनय तिवारी के खिलाफ अलग-अलग मामलों में भेजी गईं रिपोर्ट्स में क्या-क्या जानकारियां थीं, इसे भी देखा। इसमें साफ था कि हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के अलावा कुछ और आपराधिक मामलों में एसओ द्वारा लापरवाही बरती गई थी जिसके कारण अपराधियों को लाभ पहुंचा था। सभी रिपोर्ट कब्जे में लेने के बाद आईजी ने सीओ दफ्तर में कम्प्यूटर में तैनात महिला सिपाही से पूछताछ की। उसने बताया कि 14 मार्च को सीओ ने उसी से रिपोर्ट टाइप कराई थी। उसके बाद उन्होंने रिपोर्ट का क्या किया इसके बारे में जानकारी नहीं है। जांच के साथ ही इस तथ्य से भी पर्दा उठ गया कि रिपोर्ट व्हाट्सएप या ईमेल के माध्यम से आगे बढ़ाई गई थी।


          ➖    ➖    ➖   ➖    ➖


देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं


लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page


सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए


मो. न. : - 9450557628


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लखनऊ में सैकड़ों अरब के कैलिफोर्नियम सहित 8 गिरफ्तार, 3 बस्ती के

समायोजन न हुआ तो विधानसभा पर सामूहिक आत्महत्या करेंगे कोरोना योद्धा

बस्ती पंचायत चुनाव मतगणना : अबतक घोषित परिणाम