कोरोना से बचाव व इलाज हमारे हाथ में : आनन्द गौरव शुक्ल

तारकेश्वर टाईम्स (हिदै)


बस्ती  (उ.प्र.) । कोरोना वायरस आज दुनिया के हर देश में अपना पैर पसार रहा है , कोरोना जिसका वैज्ञानिक नाम कोविड-19 है । यह एक संक्रामक रोग है । लेकिन भय , भ्रम एवं लापरवाही चलते यह बहुत आसानी से लोगो तक अपनी पहुँच बनाने में सफल हो रहा है, महामारी के समय जोखिम प्रबन्धन अपने आप में एक कठिन कार्य है । इसकी रोकथाम एवं इलाज हमारे  सहयोग पर निर्भर है । कोरोना से बचाव और इलाज एक तरह से हमारे हाथ में है ।



उक्त बातें जिला कार्यक्रम अधिकारी एवं संचारी रोग नियंत्रण कार्यक्रम के प्रभारी आनन्द गौरव शुक्ल ने कहीं । उन्होंने इस संक्रामक बीमारी और गैर संक्रामक रोगों के प्रभाव के बारे में बताते हुए कहा कि गैर - संचारी रोगों से पीड़ित या प्रभावित व्यक्तियों के लिए ये जानकारियां अत्यंत उपयोगी और आवश्यक हैं। श्री शुक्ल ने बताया कि नए कोरोनो वायरस (COVID-19) से सभी उम्र के लोग संक्रमित हो सकते हैं। कोरोनोवायरस उन सभी व्यक्तियों को गंभीर रूप से बीमार कर सकता है , यदि वे वृद्ध हैं या पहले से मौजूद गैर - संचारी रोगों (एनसीडी)  जैसे हृदय रोग , उच्च रक्तचाप, (जिन्हें दिल का दौरा पड़ने या स्ट्रोक का खतरा हो सकता है), पुरानी सांस की बीमारी (जैसे COPD), मधुमेह एवं कैंसर जैसी बीमारी से पीड़ित हैं । उन्होंने बताया कि धूम्रपान करने वालों को पहले से ही फेफड़े की बीमारी या फेफड़ों सम्बन्धी अन्य बीमारी हो  सकती है जो गंभीर COVID-19  बीमारी के खतरे को बढ़ाती है । इसका मतलब है  होंठ और मुंह  के साथ जो हाथ से वायरस के संचरण की संभावना को बढ़ाता है I    



श्री शुक्ल ने बताया कि तम्बाकू एवं पान - मसाला का सेवन कर इधर- उधर थूकना करोना वाइरस (COVID-19) के फैलने में सहायक हो सकता है । ऐसी शारीरिक स्थितियाँ जो ऑक्सीजन की ज़रूरतों को बढ़ाती हैं या शरीर की क्षमता को कम करती हैं जिसके परिणामों से वायरल निमोनिया होने की सम्भावना होती है। एनसीडी से प्रभावित या अप्रभावित लोगों के लिए प्रभारी अधिकारी आनन्द गौरव शुक्ल ने सुझाव देते हुए कहा कि अपनी दवा लेना जारी रखें और चिकित्सीय सलाह का पालन करें , यदि संभव हो तो अपनी दवा की एक महीने की आपूर्ति या लंबे समय तक सुरक्षित रखें । खांसी , जुकाम या फ्लू वाले लोगों से कम से कम एक मीटर की दूरी रखें । अपने हाथों को अक्सर साबुन और पानी से धोएं या हैण्ड सेनिटाईजर का प्रयोग करें । धूम्रपान, शराब, एवं तम्बाकू अथवा नशीले प्रदार्थों का प्रयोग न करें । अपने मानसिक स्वास्थ्य की रक्षा करें, नकारात्मक विचार को ना आने दें और हमेशा सकारात्मक सोच रखें ।
श्री शुक्ल ने कहा कि एक स्वस्थ जीवन शैली सभी शारीरिक कार्यों को बेहतर ढंग से  काम करने के लिए सभी को नियमित व्यायाम / योग , रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाना ताजा हवा फल और सब्जियों के साथ, स्वस्थ आहार खाना, धूम्रपान छोड़ना, शराब का सेवन सीमित करना या उससे बचना और पर्याप्त नींद लेना एक स्वस्थ जीवन शैली के प्रमुख अंग है ।
         ➖   ➖   ➖   ➖   ➖
देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएँँ
लाॅग इन करें : - tarkeshwartimes.page 
सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए 
मो. न. : - 9450557628


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बस्ती के पूर्व सीएमओ ने गंगा में लगाई छलांग

लॉक डाउन पूरी तरह खत्म

बस्ती जिले में 35 नये डॉ. तैनात