प्राईमरी स्कूल के बच्चों की चल रही व्हाटसएप कक्षाएँ @ डॉ. सर्वेष्ट मिश्र

तारकेश्वर टाईम्स (हि.दै.)
बस्ती। जनपद के आदर्श प्राथमिक विद्यालय मूड़घाट के शिक्षकों ने कोरोना अवकाश के समय में बच्चो को पढ़ाने के लिए विद्यालय के बच्चों के अभिभावकों का एक व्हाट्सएप समूह  बनाकर उसके माध्यम से शिक्षण का तरीका अपनाया है। विद्यालय के वर्तमान में मोबाइल सुविधा से युक्त लगभग 50 से अधिक बच्चों व शिक्षकों का समूह बनाकर प्रतिदिन उन्हें सिखाने का काम कर रहे हैं। 



 विद्यालय के राष्ट्रपति पदक प्राप्त प्रधानाध्यापक डॉ. सर्वेष्ट मिश्र ने बताया कि उन्होंने व्हाट्सएप समूह का यहबप्रयोग बहुत पहले अभिभावकों से जनसंपर्क बनाने और समय-समय पर उन्हें विद्यालय की सूचनाएं देने वा लेने के लिए किया था। इधर जब से लॉक डाउन के चलते विद्यालय में छुट्टियां बढ़ने लगी तो उन्होंने इस समूह का प्रयोग उनके बच्चों को शिक्षण के लिए करने का फैसला किया। उनके इस कार्य में विद्यालय के दूसरे शिक्षको आराधना श्रीवास्तव , विनय चौधरी साजिदा बेगम, लगातार बच्चों को गृह कार्य देने और उसे जांच करके लौटाने और दूसरे सुझाव व शिक्षण सामग्री उपलब्ध कराने का काम कर रहे हैं।     


ग्रुप में बच्चे भी प्रतिदिन अपने काम को पूरा करने के उपरांत वापस डाल रहे हैं। जिसे चेक करके शिक्षक उसका समुचित जवाब भी दे पा रहे हैं। ग्रुप में सबसे बेहतरीन कार्य विद्यालय के शिक्षक विनय चौधरी द्वारा किया जा रहा है जिसमें वह प्रतिदिन एक सरल और आसान पद्धति से बच्चों को गणितीय संक्रियाएं सिखा रहे हैं। इसी तरह आराधना श्रीवास्तव बच्चो को अंग्रेजी विषय पर विशेष ध्यान दे रही हैं। इसी प्रकार अन्य शिक्षक भी अपना योगदान दे रहे हैं। 


प्रधानाध्यापक डॉ. सर्वेष्ट मिश्र ने बताया कि वह प्रतिदिन बच्चों को इंग्लिश स्पीकिंग कोर्स के ऑडियो और उसके लिखित सामग्री भेज रहे हैं। इसके अलावा वह समूह का प्रयोग अभिभावकों में कोविड-19 के प्रति जागरूकता बढ़ाने, सोशल डिस्टेंसिंग बनाने, और साफ-सफाई के साथ अपने स्वास्थ्य की देखभाल करने के दिशा निर्देश दे रहे हैं। साथ ही लोगों को जागरूक करने के लिए समय-समय पर बेसिक शिक्षा विभाग, भारत सरकार व उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा समय समय पर जारी दिशा-निर्देशों को अभिभावकों तक पहुंचाने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि इस तरह के प्रयोग से जनपद के दूसरे विद्यालयों के शिक्षक भी कर रहे हैं। अब तो शिक्षा विभाग ने भी इस तरह ऑनलाइन क्लास चलाने का दिशा निर्देश जारी किया है। 
उन्होंने बताया है कि इसी तरह उन्होंने शिक्षकों में व्यावसायिक क्षमता वृद्धि के लिए प्रदेश के सभी 75 जनपदों के 125 शिक्षकों को लेकर शैक्षिक आंकलन विषय पर पिछले 10 दिनों से एक ऑनलाइन क्लास का संचालन कर रहे हैं। जिसमें  ऑस्ट्रेलियन काउंसिल आफ एजुकेशनल रिसर्च, बेसिक शिक्षा निदेशालय, राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद लखनऊ, डायट तथा विभिन्न आकलन विशेषज्ञों के माध्यम से शिक्षकों को एक साथ प्रशिक्षित करने का कार्य कर रहे हैं।       


उन्होंने जनपद के सभी शिक्षकों से अपने विद्यालय के बच्चों को इस तरह व्यक्तिगत प्रयास कर ऑनलाइन शिक्षण की अपील की है।
वेबसाइट,यूट्यूब चैनल व रेडियो से भी जागरूक कर रहे सर्वेष्ट
डॉ. सर्वेष्ट मिश्र ने बताया कि लॉक डाउन के समय अधिक से अधिक बच्चो, अभिभावकों व शिक्षकों तक पढ़ाई, जागरूकता, व सहयोग के लिए स्वयं के स्कूल की वेबसाइट व यूट्यूब चैनल बना रखे हैं। इसके अलावा वह आकाशवाणी लखनऊ, करेंट एफएम, किसान रेडियो सहित विभिन्न एफएम रेडियो के माध्यम से शैक्षिक गतिविधियों को बढ़ावा दे रहे हैं।
         ➖   ➖   ➖   ➖   ➖
देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएँ 
लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page
सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए 
मो.न. : - 9450557628


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लखनऊ में सैकड़ों अरब के कैलिफोर्नियम सहित 8 गिरफ्तार, 3 बस्ती के

समायोजन न हुआ तो विधानसभा पर सामूहिक आत्महत्या करेंगे कोरोना योद्धा

बस्ती पंचायत चुनाव मतगणना : अबतक घोषित परिणाम