निर्भया को न्याय और इंसाफ का दिन : अमित उपाध्याय

तारकेश्वर टाईम्स (हि.दै.)


(शैलेन्द्र पाण्डेय) संतकबीरनगर । आज का दिन निर्भया के लिए इंसाफ का दिन है । यह ऐतिहासिक भी है । क्योंकि निर्भया के गुनहगारों को फांसी देकर भारतीय न्यायपालिका ने पूरी दुनिया को यह संदेश दिया है कि महिला अधिकारों और उनके साथ किसी भी प्रकार के शोषण को कतई बर्दाश्त नहीं किया जा सकता तथा अपराधी को सभी नए विकल्पों को प्रदान किया जाता है ।


निर्भया को मिले इंसाफ पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए उक्त बातें बाल कल्याण समिति संत कबीर नगर के अध्यक्ष अमित कुमार उपाध्याय ने कही श्री अमित कुमार उपाध्याय ने कहा कि निर्भया को अभी पूर्ण इंसाफ नहीं मिला है निर्भया को सही मामले में न्याय मिलेगा जब सभी महिला का सम्मान होगा और बिना किसी भेदभाव के बराबरी से समान अवसर उपलब्ध कराया जाएगा।
बाल कल्याण समिति संत कबीर नगर के सदस्य सत्यप्रकाश टीटू ने कहा कि निर्भया के दोषियों की फांसी से भारत के संविधान और न्यायपालिका में सामान्य नागरिकों का विश्वास बढ़ा है ऐसी जगह घटना के दोषियों को फांसी का यह संदेश है कि इस तरह की हैवानियत करने वाले अपराधियों को कतई बख्शा नहीं जाएगा उन्हें अपने किए गए प्रत्येक अपराध की कड़ी सजा भुगतनी पड़ेगी।
बाल कल्याण समिति संतकबीरनगर की सदस्य नुजहत नसीम खान ने कहा कि आज निर्भया के गुनहगारों को फांसी देकर हम महिलाओं को जश्न मनाने का मौका मिला है निर्भया के गुनहगारों की फांसी से यह बात प्रमाणित हो गई है कि दोषी बचने के लिए चाहे जितने हथकंडे अपना लें उन्हें उनके किए गए गुनाहों की सजा भुगतनी ही पड़ेगी।
दिलीप कुमार शुक्ला फौजदारी अधिवक्ता ने कहा कि आज का दिन निर्भय इंसाफ का दिवस है अपराध न्याय प्रणाली में सुधार की आवश्यकता है श्री शुक्ला ने कहा कि महिलाओं को लेकर निम्न मानसिकता में बदलाव तथा बेटी बेटा में समानता विकास का समान अवसर और प्रत्येक महिला को अनिवार्य शिक्षा से सकारात्मक परिवर्तन देखने को मिलेगा।
          ➖   ➖   ➖   ➖   ➖
देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएँ 
लाॅग इन करें : - tarkeshwartimes.page 
सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए 
मो0 न0 : - 9450557628


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बस्ती : दवा व्यवसाई की पत्नी का अपहरण

अयोध्या : नहाते समय पत्नी को किस करने पर पति की पिटाई

बस्ती : पत्नी और प्रेमी ने बेटी के सामने पिता को काटकर मार डाला, बोरे में भरकर छिपाई लाश