मुस्लिमों ने निकाली हिन्दू की शव यात्रा : कायम की मिसाल

तारकेश्वर टाईम्स (हि.दै.) बुलंदशहर (उ.प्र.) । कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण लॉकडाउन में बुलंदशहर में हिन्दू - मुस्लिम एकता की अनोखी मिसाल देखने को मिली है। यहां एक हिन्दू परिवार में वृद्ध का निधन हो गया। लॉकडाउन के चलते अर्थी को कंधा देने के लिए उनके परिवार का कोई नहीं था। जैसे ही यह बात आसपास क मुस्लिमों को पता चली वह सब पहुंच गए। उन लोगों ने अर्थी को ना केवल कंधा दिया बल्कि शमशान घाट ले गए और वहां पर विधि पूर्वक अंतिम संस्कार भी कराया। 



बुलंदशहर के मोहल्ला आनंद विहार साठा निवासी रविशंकर का बीमारी के चलते शनिवार को निधन हो गया। कैंसर पीडि़त रविशंकर के रिश्तेदार लॉकडाउन होने के कारण आने में असमर्थ थे। अंतिम संस्कार के लिए रविशंकर के बेटे ने रिश्तेदारों तथा अपने दोस्तों को फोन किया और अंतिम संस्कार शामिल होने को कहा, लेकिन सभी ने लॉकडाउन होने के कारण असमर्थता व्यक्त की।  ग्राम प्रधान अफरोजी बेगम के बेटे जाहिद अली ने इसके बाद लोगों को एकत्र किया और सभी से साफ कहा कि रविशंकर जी का अंतिम संस्कार हिंदू रिवाजों से होगा। इसके बाद एक दर्जन मुस्लिम एकत्र हो गए। 



बाबू खां, जाहिद अली प्रधान, मोहम्मद इकराम आदि लोगों ने न सिर्फ अर्थी को कंधा दिया, बल्कि शव को कालीनदी श्मशान घाट ले जाकर उसका अंतिम संस्कार भी कराया। यह पूरा मामला प्रदेश व देश के साथ क्षेत्र में चर्चा का विषय बन गया। अब लोगों ने इसे हिंदू मुस्लिम एकता के लिए एक सराहनीय कदम बताया है।
        ➖   ➖   ➖   ➖   ➖
देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएँ  
लाॅग इन करें : - tarkeshwartimes.page 
सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए
मो. न. : - 9450557628


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बस्ती : दवा व्यवसाई की पत्नी का अपहरण

अयोध्या : नहाते समय पत्नी को किस करने पर पति की पिटाई

बस्ती : पत्नी और प्रेमी ने बेटी के सामने पिता को काटकर मार डाला, बोरे में भरकर छिपाई लाश