पुलिस इनकाउंटर : डेढ़ लाख के ईनामी लुटेरे का दि इंड

तारकेश्वर टाईम्स (हि.दै.)


                 ( बृजवासी शुक्ल)
     बस्ती  (उ.प्र.) । एसटीएफ एवं बस्ती पुलिस की संयुक्त टीम ने डेढ़ लाख के ईनामी और आईसीआईसीआई बैंक बस्ती के चालीस लाख रूपये की लूट को अंजाम देने वाले अपराधी फिरोज को गिरफ्तारी के दौरान हुई मुठभेड़ में मार गिराया । उसे घायलावस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहाँ उसने दम तोड़ दिया । मुठभेड़ में एसटीएफ गोरखपुर के आरक्षी मो. इमरान को भी चोटें आयी हैं । 



पुलिस इनकाउंटर में मृतक फिरोज पठान उर्फ इरफान उर्फ होरू पुत्र स्व. अब्दुल हमीद सा. मुण्डेरा थाना धूमनगंज प्रयागराज का निवासी है । यह मुठभेड़ चौबीस फरवरी को तड़के करीब पौने छः बजे थाना लालगंज अन्तर्गत महादेवा बाजार से लालगंज जाने वाले मार्ग पर ग्राम सोहिला मेें हुई । उसे घाायलावस्था में इलाज हेतु पीएचसी बनकटी भेजा गया, जहाँ से चिकित्सक द्वारा जिला अस्पताल बस्ती रेफर किया गया । जिला अस्पताल में इलाज के दौरान उसे मृत घोषित कर दिया गया । पुुुलिस अधीक्षक हेमराज मीना ने घटना स्थल का दौरा किया और स्थितियोंं का जायजा लिया । मुठभेड में पुलिस टीम , एसटीएफ यूनिट गोरखपुर पुलिस उपाधीक्षक धर्मेश कुमार शाही के नेतृत्व में निरीक्षक सत्य प्रकाश सिंह , उ.नि. सूरज नाथ सिंह एसटीएफ यूनिट गोरखपुर टीम, थानाध्यक्ष पुरानी बस्ती सर्वेश राय , प्रभारी निरीक्षक कोतवाली राम पाल यादव एवं थानाध्यक्ष लालगंज अनिल कुमार सिंह अपनी टीम के साथ शामिल रहे ।


फिरोज के ऊपर कुल पांच मुकदमें दर्ज हैं , जिनमें आईसीआईसीआई बस्ती में हुई लूट , फरेन्दा महराजगंज में एचडीएफसी बैंक में हुई लूट के साथ ही लूट / डकैती के तीन मामले कौशाम्बी में दर्ज हैं । इसके पास से मैगजीन सहित एक कार्बाईन और 9 एमएम. के पांच जिन्दा कारतूस , मैगजीन सहित 0.32 बोर की एक पिस्टल के साथ 3 जिन्दा व 4 खोखा कारतूस , दो जिन्दा व दो खोखा कारतूस सहित 315 बोर का एक तमंचा हुआ । मुठभेड के दौरान मारे गये अपराधी फिरोज पठान उर्फ इरफान उर्फ होरू पर अपर पुलिस महानिदेशक गोरखपुर जोन द्वारा एक लाख रूपये एवं पुलिस महानिरीक्षक प्रयागराज परिक्षेत्र द्वारा पचास हजार रूपये का इनाम घोषित है । पुुुलिस के अनुसार यह लूट की घटना कारित करने के उपरान्त अपने भांजे इरशाद की मदद से मुम्बई भाग कर कुछ दिन वहीं रहता था । लूट के पैसे का उपभोग स्वयं के अतिरिक्त इसके भांजे इरशाद द्वारा किया जाता था । इसकी प्रथम पत्नी रेहाना निवासी पूरखास थाना सराय अकील जनपद कौशाम्बी से करीब 20 वर्ष पूर्व तलाक हो चुका है । इसके उपरान्त इसने मुम्बई में shadi.com के माध्यम से ज्योति रामजग दूबे उर्फ हिना पठान निवासी थाणे मुम्बई से प्रेम विवाह किया तथा इसके साथ रीगल आपार्टमेन्ट मीरा रोड भयन्दर थाणे मुम्बई में रहता था। दिसम्बर माह में इसने इस आवास को छोड़कर अपने दूसरे पते किंजल सोसाइटी बिल्डिंग नं0 38 फ्लैट नं0 04 शान्ति नगर सेक्टर प्रथम मीरा रोड थाणे मुम्बई में रहने लगा ।


फिरोज की पहचान एक विलासिता पूर्ण जीवन जीने वाले व्यक्ति के रूप में मुम्बई में रही है। इसके द्वारा मुम्बई में ही इस जनपद की घटना मे संलिप्त अजय यादव पुत्र उदय राज निवासी बतौरिया थाना खेसरहा जनपद सिद्धार्थनगर से परिचय हुआ। यह इसी परिचय के आधार पर माह सितम्बर 2019 में सिद्धार्थनगर आया तथा किराये का कमरा लेकर वहीं से एचडीएफसी बैंक फरेन्दा जनपद महराजगंज एवं आईसीआईसीआई बैंक बस्ती लूट की घटनाएं कीं । इसके द्वारा थाना चरवा जनपद कौशाम्बी में एक ग्राहक सेवा केन्द्र से लूट की घटना एक व्यापारी से उसकी मोटर साइकिल की लूट एवं थाना सराय अकील में ग्राहक सेवा केन्द्र में लूट की घटना कारित की गई है । यह उपरोक्त सभी घटनाओं में वांछित रहा । इसके सह अभियुक्त विजय कश्यप द्वारा पूछताछ में यह भी बताया गया कि वर्ष 2011 में वह फिरोज पठान के साथ मुम्बई से फिरोज के रवि सिंह नामक दोस्त के बुलाने पर सूरत गुजरात में एक सोना व्यापारी की लूट करने गया था जहाँ पर घटना से पूर्व ही दोनो पकड़े गये और इनके कब्जे से अवैध असलहे बरामद हुये थे जिसमें यह जेल गये । पूछताछ और जाँच में यह भी पाया गया कि फिरोज पठान द्वारा लूट में प्राप्त पैसे का उपयोग अपने स्वयं के नाम न करके अपने परिजनो के नाम जनपद प्रयागराज , कौशाम्बी , जबलपुर , मध्य प्रदेश एवं मुम्बई में फ्लैट व जमीन खरीदने हेतु किया जाता था ।



यह करीब दस वर्षो से लूट की घटनाएं करता रहा था । जनपद कौशाम्बी एवं प्रयागराज  में की गई लूट की घटनाओं में इसका भतीजा वसीम अहमद एवं इसका साला गुड्डू भी पकडा गया है , जो वर्तमान में जिला कारागार प्रयागराज में निरूद्ध है।  इसके द्वारा प्रत्येक घटना में नये साथियों को साथ में रखा जाता था तथा लूट का अधिकतम हिस्सा अपने पास रखता था । यह लगातार अपने रहने के स्थान एवं मोबाइल नम्बर को बदलता रहता था । इसके द्वारा विगत 03 तीन माह में 30 से अधिक नम्बरों का प्रयोग किया गया । लूट की धनराशि से ही नई मोटर साइकिल खरीदी गयी थी । प्रत्येक घटना से पूर्व बैंक एवं आने जाने के सभी रास्तों को स्वयं देखता था तथा गैंग के अन्य सदस्यों के साथ आगे रहकर घटना कारित करता था । गैंग के सदस्यो से पूछताछ में यह भी पाया गया कि यह यू - ट्यूब के माध्यम से प्रदेश में हुई लूट से सम्बन्धित समाचारों को स्वयं देखता था तथा अपने साथियों को दिखाकर अधिकतम दो से तीन मिनट के अन्दर ही घटना को पूर्ण करके भाग जाने की योजना बनाकर कार्य करता था । यह अपने साथ पर्याप्त मात्रा में असलहे रखता था तथा दोनों हाथों से शस्त्र चलाने का माहिर था । मुठभेड के दौरान भी इसनेे दोनों हाथो से पुलिस टीम पर फायरिंग की ।


           ➖   ➖   ➖   ➖   ➖
देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएँ 
लाॅग इन करें : - tarkeshwartimes.page 
सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए 
मो0 न0 : - 9450557628


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बस्ती के पूर्व सीएमओ ने गंगा में लगाई छलांग

लॉक डाउन पूरी तरह खत्म

बस्ती जिले में 35 नये डॉ. तैनात