सुल्तान के निधन पर भारत में राजकीय शोक

तारकेश्वर टाईम्स (हि0दै0)
ओमान से रिश्ते / पूर्व राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा के स्टूडेंट थे सुल्तान काबूस, निधन पर भारत ने एक दिन के शोक का ऐलान किया
गृह मंत्रालय ने 13 जनवरी को राष्ट्रध्वज को आधा झुकाने, आधिकारिक मनोरंजन नहीं करने की घोषणा की ।
सुल्तान काबूस ने पुणे में पढ़ाई की थी और पूर्व राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा के पूर्व छात्र रहे थे ।
सुल्तान ने केरल के पादरी टॉम उझुन्नालिल को यमन से रिहा करवाने में अहम भूमिका निभाई थी ।


नई दिल्ली । ओमान के सुल्तान काबूस बिन सईद अल सईद का शुक्रवार को निधन हो गया था। उनके सम्मान में भारत सरकार ने 13 जनवरी को एक दिन केराजकीय शोक की घोषणा की है। इस दौरान राष्ट्रध्वज आधा झुका रहेगा औरकोई आधिकारिक मनोरंजन नहीं होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्रमोदी ने भी शनिवार को सुल्तान काबूसके निधन पर दुख जताया था और कहा था कि भारत ने खाड़ी देश में अपना एक महत्वपूर्ण सहयोगी खो दिया। काबूस के चचेरे भाई हैथम बिन तारिक अल सईद को नया सुल्तान घोषित किया गया है।



पूर्व राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा के छात्र रहे काबूस
सुल्तान काबूस नेभारत में पढ़ाई की थी। पूर्व राष्ट्रपतिशंकर दयाल शर्मा पुणे में उनके शिक्षक थे।सुल्तान काबूस के पिता अजमेर के मेयो कॉलेज के पूर्व छात्र थे। उन्होंने काबूस को पुणे में पढ़ने भेजा था।


मोदी ने काबूस को अरब क्षेत्र और दुनिया के लिए शांति का प्रतीक बताया था। उन्होंने ट्वीट किया, “सुल्तान काबूस एक दूरदर्शी नेता और राजनेता थे, जिन्होंनेओमान को एक आधुनिक और समृद्ध राष्ट्र में बदला।काबूस भारत केसच्चेदोस्त थेऔर उन्होंने दोनों देशों के बीच एक जीवंत रणनीतिक साझेदारी विकसित करने में अहम योगदान दिया। मैं हमेशा उनसे मिली गर्मजोशी और स्नेह को संजोकर रखूंगा।”


एक भारतीय राजनयिक ने मस्कट से बताया कि उन्हें अपने छात्र दिनों की बहुत सारी बातें याद थी। यही कारण है कि वह भारतीय समुदाय की मदद के लिए हमेशा तत्पर रहते थे। वे हमेशा भारत के अनुरोधों के प्रति बहुत उदार रहे हैं। सुल्तान काबूस ने केरल के पादरी टॉम उझुन्नालिल को यमन से रिहा करवाने में अहम भूमिका निभाई। टॉम उझुन्नालिल को मार्च 2016 में अगवा कर लिया गया था और सितंबर 2017 में रिहा कर दिया गया था।


सुल्तान ने भारत के साथ बेहतर संबंध स्थापित किए
दिल्ली विश्वविद्यालय में इतिहास के असिस्टेंट प्रोफेसर प्रतीक कुमार नेकहा, “सुल्तान के निधन से सिर्फ ओमान नहीं बल्कि पूरा विश्व समुदाय दुःखी है। उन्होंने भारत के साथ संबंधों को मजबूत बनाने में अहम भूमिका निभाई थी। खासकर पिछले एक दशक में उनके भारत के साथ राजनीतिक और व्यापारिक संबंध अधिक प्रगाढ़ हुआ। उनके कार्यकाल दिल्ली-मस्कट मैरीटाइम ट्रांसपोर्ट एग्रीमेंट पर भी दोनों देशों के बीच समझौता हुआ। भारत शांतिप्रिय देश है, इसलिए ओमान के नए शासक से भी संबंध बेहतर रहने की संभावना है।”


      ओमान में 7.7 लाख भारतीय रहते हैं
ओमान में 7.7 लाख भारतीय रहते हैं और इसमें 6.55 लाख कामगार और नौकरीपेशा लोग शामिल हैं। ओमान में पिछले 150-200 सालों से भारतीय परिवार रहते आ रहे हैं। हजारों की संख्या में वहां डॉक्टर, इंजीनियर, चार्टर्ड अकाउंटेंट, शिक्षक, प्रोफेसर, नर्सेस और मैनेजर भारतीय हैं। भारत अब नए सुल्तान हैथम बन तारिक के साथ बेहतर संबंध की अपेक्षा रखता है,ताकि वहां रह रहे भारतीय समुदाय के कल्याण की दिशा में काम किया जा सके। 


            ( आमोद उपाध्याय - सम्पादक )
        ➖   ➖   ➖   ➖   ➖
देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएँ 
लाॅग इन करें : - tarkeshwartimes.page 
सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए 
मो0 न0 : - 9450557628


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लखनऊ में सैकड़ों अरब के कैलिफोर्नियम सहित 8 गिरफ्तार, 3 बस्ती के

समायोजन न हुआ तो विधानसभा पर सामूहिक आत्महत्या करेंगे कोरोना योद्धा

बस्ती पंचायत चुनाव मतगणना : अबतक घोषित परिणाम