खण्डहर हुआ बारात घर , लाखों बेकार

तारकेश्वर टाईम्स (हि0दै0)


महराजगंज  ( उ0प्र0 ) । एक तरफ जहां भारत के प्रधानमंत्री तथा सूबे की सरकार डिजिटल इंडिया बनाने के लिए गांव से लेकर शहर तक को विकास के रूप में देखना चाहती है तो वहीं दूसरी तरफ योगी सरकार के कुछ भ्रस्ट अधिकारी व कर्मचारी योगी सरकार के नीतियों को नाकाम करने में कहीं से कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं।
बताते चलें कि नौतनवां तहसील क्षेत्र के ग्राम सभा शिवपुरी में कुछ ऐसा ही मामला देखने को मिल रहा है जहां पिछले करीब पांच वर्ष पूर्व लाखों रुपए के लागत से बना बारात घर बेमतलब साबित हो रहा है। आपको बता दें कि जब ग्राम सभा में बारात घर बन कर तैयार हुआ था तो ग्रामीणों में खुशी की लहर दौड़ पड़ी थी।



लेकिन बारात घर की स्थिति बद से बद्तर देखकर एक बार फिर ग्रामीणों के चेहरे पर मायूसी सी छा गई। क्यों कि आज बारात घर की स्थिति ऐसी हो गई है कि यहां आदमी तो दूर जानवर भी बैठना पसंद नहीं करते ऐसे में बारात को कैसे ठहराया जा सकता। ग्रामीणों का कहना है कि आज तक कोई अधिकारी या कर्मचारी मरम्मत की बात तो दूर देखने तक नहीं आए हैं लोगों ने बताया की अगर गांव में किसी के घर शादी होता है तो बारात के ठहरने का कोई भी इंतजाम नहीं हो पाता है थक हार कर ग्रामीण बारात को ठहराने के लिए खेत, खलिहान तथा रोड का सहारा लेते हैं।



इस सन्दर्भ मे जब ग्राम विकास अधिकारी संजय पाण्डेय के मोबाइल फोन पर बात करने का प्रयास किया गया तो साहब फोन उठाना उचित नहीं समझे। वहीं खण्ड विकास अधिकारी नौतनवां अनिल यादव का कहना है कि इसका देखरेख हमारे कार्य क्षेत्र से बाहर है।
       ➖   ➖   ➖   ➖   ➖
देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएँ 
लाॅग इन करें : - tarkeshwartimes.page 
सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए 
मो0 न0 : - 9450557628


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लखनऊ में सैकड़ों अरब के कैलिफोर्नियम सहित 8 गिरफ्तार, 3 बस्ती के

समायोजन न हुआ तो विधानसभा पर सामूहिक आत्महत्या करेंगे कोरोना योद्धा

बस्ती पंचायत चुनाव मतगणना : अबतक घोषित परिणाम