स्व0 स्वास्थ्यकर्मी के पीएफ व आश्रित को नौकरी में पक्षपात का आरोप 

तारकेश्वर टाईम्स  (हि0दै0)
बस्ती  (उ0प्र0) । जिला चिकित्सालय बस्ती में वार्डब्वाय के पद पर कार्यरत अनवर अली के बेटे ने पीएफ का पैसा व मृतक आश्रित को नौकरी के मामले में पक्षपात पूर्ण कार्य करने का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री से लेकर जिले स्तर के अधिकारियों से शिकायत की है । 



       अनवर के बेटे जावेद आलम ने मुख्यमंत्री , स्वास्थ्य मंत्री , मुख्य चिकित्साधिकारी , कोषाधिकारी व पुलिस अधीक्षक को दिये प्रार्थना पत्र में कहा है कि उसके पिता बस्ती जिला अस्पताल में वार्डब्वाय के पद पर कार्यरत थे । सेवाकाल में ही छ: फरवरी 2018 को उनके निधन के बाद सौतेली माँ और सौतेले भाई के बीच उत्पन्न विवाद को निपटाते हुए नोटरी बयान हल्फी के माध्यम से सुलह समझौता कर सहमति पत्र सीएमओ बस्ती के कार्यालय में दे दिया गया । इसमें स्व0 अनवर अली का पीएफ , ग्रेच्युटी फण्ड आदि से मिलने वाली सम्पूर्ण धनराशि का पचहत्तर प्रतिशत जावेद आलम को , पचीस प्रतिशत सौतेली बहन हिना को दिया जाएगा । मृतक आश्रित के रूप में नौकरी प्राप्त करने हेतु सौतेले भाई अशरफ तथा पेंशन सौतेली मां नूरजहाँ के लिए सहमति बनी थी । इसके साथ ही यह भी तय किया गया था कि जावेद के हक में मिलने वाली धनराशि में इसके सगे भाई परवेज आलम और सगी बहन सकीरून्निशा का हिस्सा शामिल है ।



जावेद आलम के अनुसार मुख्य चिकित्साधिकारी बस्ती के कार्यालय में बाकायदा सहमति पत्र देकर उसी के अनुसार भुगतान और मृतक आश्रित नौकरी पर कार्यवाही के लिए प्रस्तुत किया गया था । जावेद ने आरोप लगाया है कि सीएमओ आफिस द्वारा सौतेली माँ एवं भाईयों से मिलीभगत करके सहमति पत्र को दरकिनार कर गलत तरीके से बंदरबांट करने की कोशिश की जा रही है । 
      जावेद ने सहमति पत्र के आधार पर पिता की सम्पूर्ण देय धनराशि का 75 प्रतिशत खुद को तथा 25 प्रतिशत सौतेली बहन हिना को दिलाये जाने की मांग की है ।
           ➖   ➖   ➖   ➖   ➖
देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएँ 
लाॅग इन करें : - tarkeshwartimes.page 
सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए 
मो0 न0 : - 9450557628


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बस्ती के पूर्व सीएमओ ने गंगा में लगाई छलांग

लॉक डाउन पूरी तरह खत्म

बस्ती जिले में 35 नये डॉ. तैनात