बिना शर्त खत्म हुई लेखपालों की हड़ताल

तारकेश्वर टाईम्स  ( हि0दै0)


बस्ती ( उ0प्र0 ) । पखवारे भर से अधिक समय से चल रही लेखपालों की हड़ताल आज एक झटके में खत्म हो गयी । इसकी घोषणा लेखपाल संघ के प्रदेश अध्यक्ष एवं महामंत्री ने मुख्य सचिव उ0प्र0 को पत्र देकर हड़ताल के बिना शर्त वापस लेने की घोषणा करते हुए अनुशासनात्मक कार्यवाहियां वापस लेने की मांग की है । 



 पे ग्रेड 2000 से 2800 किये जाने , पदनाम बदले जाने , किसान सम्मान योजना में प्रत्येक लाभार्थी 18 रूपया भुगतान किये जाने सहित कई अन्य मांगों को लेकर लेखपाल 10 दिसम्बर से आन्दोलित थे । उ.प्र. लेखपाल संघ के अवाह्न पर पहले धरना तहसील मुख्यालयों पर चल रहा था । लेकिन तेरह दिसम्बर से सभी तहसीलों के लेखपाल जनपद मुख्यालय पर आ गये थे ।
    भीषण ठंड , शीतलहर , निलंबन और नो वर्क नो पे की तमाम चेतावनियों की परवाह किये बगैर सैकड़ों लेखपाल आरपार की लड़ाई लड़ रहे थे । जिलाध्यक्ष रामसुमेर एवं जिला मंत्री अजय कुमार श्रीवास्तव के नेतृत्व में पूर्व में हुआ समझौता अमल में न लाये जाने के कारण लेखपाल पूरी तरह आन्दोलित थे । लेखपाल इस आन्दोलन को हर हाल में निर्णायक स्तर पर ले जाना चाहते थे ।



लेखपाल संघ का कहना था कि हड़ताल से तमाम सरकारी कामकाज प्रभावित हैं , लेकिन इसकी पृष्ठभूमि सरकार ने स्वयं तैयार किया है । नेताओं ने यहां तक कह दिया था कि कई बार आश्वासन दिये जाने के बाद भी शासनादेश न जारी करना सरकार की हठवादिता को रेखांकित करता है । ऐसे में संघ भी इस बार आरपार के मूड मे था । यह भी कहा जा रहा था कि निलंबन और अन्य कार्यवाहियों तथा अफवाहों से धरनारत लेखपालों को विचलित करने के प्रयास किये जा रहे हैं , लेकिन विपरीत परिस्थितियों में भी जनपद के लेखपाल एकजुट रहे । लेकिन सबका त्याग बेनतीजा रह गया । 
          ➖   ➖   ➖   ➖   ➖
देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएँ 
लाॅग इन करें : - tarkeshwartimes.page 
सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए 
मो0 न0 : - 9450557628


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रमंति इति राम: , राम जीवन का मंत्र

अतीक का बेटा असद और शूटर गुलाम पुलिस इनकाउंटर में ढेर : दोनों पर था 5 - 5 लाख ईनाम

अतीक अहमद और असरफ की गोली मारकर हत्या : तीन गिरफ्तार