सरदार पटेल ने कराया था 565 रियासतों का विलय : उर्मिला एजूकेशन एकेडमी ने मनाया जन्मदिन 

                   ( अंकित गुप्ता )


बस्ती ( उ0प्र0 ) । राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर स्थानीय उर्मिला एजूकेशन एकेडमी में देश के प्रथम उप प्रधानमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल व पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को याद किया गया । 



 उर्मिला एजुकेशनल एकेडमी बस्ती में लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती के अवसर पर विद्यालय परिवार में उनके व्यक्तित्व और कृतित्व प्रकाश डालते हुए विद्यालय के प्रबंधक धीरेन्द्र शुक्ल ने कहा सरदार पटेल का जन्म 31 अक्टूबर 1875 को गुजरात के नडियाद में हुआ था। गुजरात के एक छोटे से कस्बे में जन्म लेकर के उन्होंने देश के लिए जो सेवा किया है। हमें उनके पद चिन्हों पर चलकर उनकी बातों का अनुसरण करना चाहिए।


विद्यालय के प्रबंध निदेशक विनय शुक्ल ने सरदार वल्लभभाई पटेल जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि सरदार पटेल जी का निधन 15 दिसंबर, 1950 को मुंबई, महाराष्ट्र में हुआ था। सन 1991 में सरदार पटेल को मरणोपरान्त 'भारत रत्न' से सम्मानित किया गया था। आज भारत में जो अखंडता और एकता बनी हुई है उसके पीछे सरदार पटेल जी की अखण्ड भारत की सोच ही है। उन्होंने भारत की रियासतों को एक साथ मिलाकर के देश की शक्ति को आगे बढ़ाया है उनके अंदर लौह पुरुष की छवि था जिसका लाभ हमें मिला है।



विद्यालय के प्रधानाचार्य नरेंद्र सिंह ने सरदार वल्लभभाई पटेल जी व स्व0 इंदिरा गांधी जी के बारे में विस्तार से बताया। कहा कि आज के दिन  ही सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती 31 अक्टूबर को मनाई जाती है। सरदार वल्लभ भाई ने 565 रियासतों का विलय कर भारत को एक राष्ट्र बनाया था। साथ ही आज ही के दिन 31 अक्तूबर को ही देश की पहली पूर्व महिला प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी  की 35 वीं पुण्यतिथि पर उनको भी श्रद्धासुमन अर्पित किया गया।


विद्यालय के अध्यापक दयाशंकर मौर्या ने कहा कि भारत का जो नक्शा ब्रिटिश शासन में खींचा गया था, उसकी 40 प्रतिशत भूमि इन देशी रियासतों के पास थी। आजादी के बाद इन रियासतों को भारत या पाकिस्तान में विलय या फिर स्वतंत्र रहने का विकल्प दिया गया था।



विद्यालय के अध्यापक अंकित कुमार गुप्ता ने बताया कि वल्लभ भाई पटेल की जयंती के मौके पर राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया जाता है। पहली बार राष्ट्रीय एकता दिवस 2014 में मनाया गया था।  सरदार वल्लभभाई पटेल जी ने अपनी दूरदर्शिता, चतुराई और डिप्लोमेसी की बदौलत इन रियासतों का भारत में विलय करवाया था।



राष्ट्रीय एकता दिवस पर सभी को शपथ दिलाई गई कि ''मैं सत्यनिष्ठा से शपथ लेता हूं कि मैं राष्ट्र की एकता, अखंडता और सुरक्षा को बनाए रखने के लिए स्वयं को समर्पित करूंगा। अपने देशवासियों के बीच यह संदेश फैलाने का भी भरसक प्रयास करूंगा। मैं यह शपथ अपने देश की एकता की भावना से ले रहा हूं जिसे सरदार वल्लभ भाई पटेल की दूरदर्शिता एवं कार्यों द्वारा संभव बनाया जा सका। मैं अपने देश की आंतरिक सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अपना योगदान करने का भी सत्यनिष्ठा से संकल्प करता हूं।''



इस अवसर पर विद्यालय के छात्र-छात्राओं द्वारा उनके व्यक्तित्व कृतित्व पर प्रकाश डाला गया विद्यालय में एकता दौड़ कराया गया। साथ ही पेंटिंग प्रतियोगिता और निबंध प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया। इस अवसर पर विद्यालय के प्रधानाचार्य नरेंद्र सिंह, अंकित कुमार गुप्ता, बसंत गुप्ता, अभिनय प्रकाश पांडेय , कमलेश यादव,  उदय प्रताप सिंह, संजय प्रजापति, मनोज मिश्रा, गुलाब राव, राकेश पाण्डेय, स्तुति मिश्रा, प्रतिभा त्रिवेदी आदि अध्यापक/अध्यापिकाएं छात्र नितेश, सौरभ, रवि, छात्राएं मानसी, दीक्षा, शगुन, सौम्या, नेहा, पलक, हर्षिता, सुष्मिता आदि उपस्थित रहे।


देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएँ


लाॅग इन करें : - tarkeshwartimes.page 


सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए


मो0 न0 : - 9450557628


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रमंति इति राम: , राम जीवन का मंत्र

अतीक का बेटा असद और शूटर गुलाम पुलिस इनकाउंटर में ढेर : दोनों पर था 5 - 5 लाख ईनाम

अतीक अहमद और असरफ की गोली मारकर हत्या : तीन गिरफ्तार