जान की रक्षा हेतु पत्रकार दिनेश मिश्र ने लगाई आईजी से गुहार

गत 2 नवम्बर की सांय 6 बजे पत्रकार दिनेश मिश्र पर जानलेवा हमले के कोतवाली पुलिस पर मामले का अल्पीकरण कर अभियुक्त को छोड़ने का आरोप


बस्ती ( उ0प्र0 ) ।  ( राजेश शर्मा )


वरिष्ठ पत्रकार दिनेश मिश्र ने गत 2 नवम्बर की सांय 6 बजे कटरा पानी टंकी स्थित शहर के भीड़भाड़ वाले इलाके में अपने ऊपर हुए जानलेवा हमले तथा कोतवाली पुलिस को सूचना देने के बाद आरोपी को थाने से छोड़ देने तथा
प्रकरण में अल्पीकरण करने के मामले में पुलिस महानिरीक्षक बस्ती रेंज को प्रार्थना पत्र देकर जानमाल की सुरक्षा की गुहार लगाया है। बताते चलें कि दिनेश मित्र लखनऊ से प्रकाशित एक प्रतिष्ठित समाचार पत्र के जिला संवाददाता है।



      पीड़ित दिनेश मिश्र ने पुलिस महानिरीक्षक को दिये गये प्रार्थना पत्र में बताया कि वह अपनी बड़ी पुत्री कीर्ति की शादी दो वर्ष पूर्व नगर थाना क्षेत्र के पुरैना गांव निवासी राहुल पाठक पुत्र स्व0विन्देश्वरी पाठक से किया था। प्रार्थी श्री मिश्र ने बताया कि उनके पास केवल तीन पुत्रियां है जिनमें कीर्ति उनकी सबसे बड़ी पुत्री है। दिनेश मिश्र ने बताया कि चूंकि मेरे पास पुत्र नहीं है इसलिए राहुल पाठक व उसका चाचा हरीश पाठक पुत्र अज्ञात मेरी लड़की कीर्ति को अपनी माता से बस्ती में स्थित मकान का बैनामा अपने पक्ष में कराने हेतु मारता-पीटता एवं प्रताड़ित करता है। इसी कारण प्रार्थी अपनी पुत्री कीर्ति को गत 18 अक्टूबर 2019 को
विदाई कराकर अपने घर ले आया था।


उन्होंने बताया कि जब प्रार्थी अपनी पुत्री को घर ले आया उसके पश्चात गत 1 नवम्बर को समय लगभग 1 बजे दोपहर में राहुल पाठक व हरीश पाठक प्रार्थी के घर पहुंचकर जान से मारने की धमकी देने लगे जिस पर प्रार्थी ने इसकी सूचना तत्काल प्रभारी निरीक्षक कोतवाली को देते हुए सुरक्षा की गुहार लगाया। मौके पर चीता पुलिस पहुंची  और जांच पड़ताल किया।



प्रार्थी दिनेश मिश्र ने बताया कि इस पर भी वे अपनी पुत्री के वैवाहिक जीवन और खराब न हो इसके लिए कोई कानूनी कार्यवाही उस समय तक नही किया। इसके बाद गत 2 नवम्बर की शाम 6 बजे जब प्रार्थी खबरो का प्रेषण कर घर केषलिए निकला ही था कि पानी की टंकी के तरफ कुछ ही दूर बढ़ा ही था कि सीओ नगर कोर्ट के सामने अंधेरे में पहले से ही घात लगाये हरीश पाठक जान से मारने की नीयत से ललकारते हुए नंगी पिस्टल लेकर प्रार्थी के बाइक की तरफ दौड़ा। प्रार्थी ने बताया कि जब हरीश पाठक ने गाली के साथ नाम लेते हुए ललकारा तो वह अपनी बाइक की गति बढ़ा



दिया और कटरा पुलिस चौकी होते हुए रोडवेज की तरफ भागने का प्रयास करने लगे उसी समय प्रार्थी ने देखा कि पल्सर बाइक सवार राहुल पाठक, उसका छोटा भाई सुनील पाठक व तीन अज्ञात लोग बड़ी स्पीड से प्रार्थी की बाइक को क्षतिग्रस्त करने के उद्देश्य से टक्कर मारा परन्तु जैसे तैसे प्रार्थी ने खुद को बचाकर रौता पुलिस चौकी पहुंंचा और घटना की सूचना अपर पुलिस अधीक्षक को भी दिया । उस दिन छठ पर्व होने के कारण काफी भीड़ थी । यदि उस दिन प्रार्थी ने सूझबूझ से काम न लिया होता या फिर हमलावर गोली चलाते तो गोली भीड़ होने के कारण किसी को भी
लग सकती थी । भीड़ होने के कारण शायद हमलावरों को मौका नही मिल सका।



प्रार्थी ने बताया कि रौता चौकी इंचार्ज कन्हैया पाण्डेय ने फोन करके एक आरोपी राहुल पाठक को पुलिस चौकी पर बुलाया परन्तु बिना किसी कार्यवाही के अभियुक्त का पक्ष लेते हुए प्रार्थी को अपमानित करने और सुलह का दबाव
बनाने लगे । प्रार्थी ने सुलह न करने तथा मुकदमा दर्ज करने की बात पर जोर दिया। इस पर प्रार्थी को मुल्जिम की तरह अपने सिपाही से कोतवाली लाया गया और मानसिक प्रताड़ना दी गयी । 



 दिनेश मिश्र ने बताया कि पुलिस प्राथमिकी में
लीपापोती कर घटना को दबाकर आरोपी को बचाने का प्रयास कर रही है। प्रार्थी ने यह भी आरोप लगाया कि पुलिस ने अब तक घटनास्थल पर पहुंचकर न तो जांच
पड़ताल किया और न ही पल्सर बाइक व पिस्टल की बरामदगी ही किया । प्रार्थी ने बताया कि आरोपी हरीश पाठक अपराधिक प्रवृत्ति के व्यक्ति है । जिनके
विरूद्ध नगर थाने में गंभीर धाराओ में कई मामले दर्ज हैं  , इसलिए प्रार्थी की हत्या होने की आशंका है । प्रार्थी ने दिये गये पत्र में कहा है कि यदि मेरे साथ किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना होती है तो उक्त आरोपियों के अलावा इसके जिम्मेदार कोतवाली पुलिस एवं रौता चौकी इंचार्ज होगें।



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रमंति इति राम: , राम जीवन का मंत्र

अतीक का बेटा असद और शूटर गुलाम पुलिस इनकाउंटर में ढेर : दोनों पर था 5 - 5 लाख ईनाम

अतीक अहमद और असरफ की गोली मारकर हत्या : तीन गिरफ्तार