बस्ती: छठ की अर्घ्य की बेला के पूर्व जहरीली हुई कुआनो, भारी संख्या में मरीं मछलियां , व्रतियों की परेशानी बढ़ी 


बस्ती के कुआनों नदी  ( अमहट ) में अचानक भारी तादाद में में मछलियों के मर जाने से अफरा तफरी मच गयी और व्रती महिलाओं के लिए समस्या उत्पन्न हो गयी । प्रशासन तैयारियों के साथ घटना के कारणों की जांच में लग गया है । 



                     ( एल. पी. चौधरी )
बस्ती  ( उ0प्र0 ) । मिलों फैक्ट्रियों के गन्दे जहरीले पानी ने आज कुआनों को भी जहरीला कर दिया और भारी मात्रा में हजारों हजार मछलियों के मर कर उफनाने से छठ पर्व की व्रती महिलाओं के लिए मुसीबत खड़ी हो गयी है । आज ही शाम अस्त होते सूर्य को अर्घ्य देना था और दोपहर में ही विषैली हो गयी कुआनो । बस्ती का पूरा अमहट घाट मरी मछलियों और उससे उत्पन्न दुर्गन्ध से भर गया । स्थिति यह हो गयी कि वहां एक तरफ खड़े होना मुश्किल था, वहीं दूसरी तरफ प्रशासन के सामने जल्द से जल्द घाट को ठीक करने की चुनौती थी, देर शाम तक प्रशासन घाट की साफ सफाई करने की जुगत करता रहा । 



    पुत्र के लिए रखा जाने वाला छठ व्रत  त्योहार आज से शुरू है । त्योहार शुरू होने के ठीक पहले जनपद के कुआनो नदी में औद्योगिक रासायनिक कचरा युक्त पानी छोड़े जाने से जलीय जीव जंतु  मर कर उतराने लगे । जिससे पूरा त्योहार ही खटाई में पड़ता नजर आने लगा । नाराज व आक्रोशित लोगों जल्द व्यवस्था ठीक करने, दोषियो पर कार्यवाही करने और पानी साफ करने की मांग को लेकर नदी में खड़े होकर प्रदर्शन/ जल सत्याग्रह शुरू कर दिया है। मौके पर आला अधिकारी मौजूद हैं । 



      बिहार का प्रमुख छठ पर्व बस्ती में भी आस्था का केन्द्र हो गया है । बड़ी संख्या में माताएं पानी मे खड़े होकर अस्त होते सूर्य को और अगले दिवस भोर में बाल रूप सूर्य को अर्घ्य देती हैं, इसके बाद ही व्रत का पारायण होता है । ऐसे में कुआनो नदी में प्रदूषित ,खतरनाक जहरीले रासायनिक तत्वों वाले गंदा पानी छोड़ने से मछलियों सहित तमाम जलीय जीव जंतु सतह पर उतरा गए। घटना की सूचना पल भर में पूरे शहर में फैल गयी और नागरिकों ने स्वयं नदी में उतर कर   मछलियां बटोरने में लग गए ।


चित्रांश क्लब के पदाधिकारियों ने बदबूदार ,रासायनिक तत्वों से भरी नदी के पानी मे खडे होकर दोषियों पर कार्यवाही और नदी के पानी को पूजन योग्य बनाये जाने की मांग को लेकर जल सत्याग्रह शुरू कर दिया ।



मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के जिम्मेदारों को बुलाया है , जिससे पानी की जांच सहित जिम्मेदारों को चिह्नित किया जा सके। कुआनो के अमहट मंदिर घाट पर बुरी तरह बदबू फैल गयी है । देर से पानी मे खड़े सत्याग्रहियों ने पैरों में चुनचुनाहट और खुजली की शिकायत की है।



        लोगो का मानना है कि चीनी मिल और पेपर मिल दोनों का औद्योगिक कचरा युक्त पानी ईएफ़टीपी से होकर नदी में आता था । बस्ती की जनता आस्था और लोक परंपरा के छठ त्योहार को खराब करने का आरोप लगा रही है । पांच वर्ष पहले भी ऐसी ही घटना हुई थी , सैंपल लिए गए थे , कार्यवाही का आश्वासन मिला था , लेकिन नतीजा सिफर रहा है । 


देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएँ 


लाॅग इन करें : - tarkeshwartimes.page 
सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए


मो0 न0 : - 9450557628


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रमंति इति राम: , राम जीवन का मंत्र

अतीक का बेटा असद और शूटर गुलाम पुलिस इनकाउंटर में ढेर : दोनों पर था 5 - 5 लाख ईनाम

अतीक अहमद और असरफ की गोली मारकर हत्या : तीन गिरफ्तार