मुख्यमंत्री विवेकाधीन आर्थिक सहायता गरीबों को जल्द से जल्द : SDM सदर

                       अंकुर श्रीवास्तव


बस्ती (उ0प्र0)। मुख्यमंत्री विवेकाधीन आर्थिक सहायता के प्रकरणो में सम्बन्धित पत्र प्राप्ति के दो दिनो के भीतर आख्या प्रस्तुत करें। इस मामले में किसी भी प्रकार की लापरवाही क्षम्य नही होगी। उक्त निर्देश उपजिलाधिकारी सदर शिव प्रताप शुक्ल ने समस्त राजस्व निरीक्षक/लेखपालो को दिया है।
उपजिलाधिकारी सदर ने सदर तहसील पर गांधी व शास्त्री जयन्ती के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में सभी को इस बावत संकल्प भी दिलाया। उपजिलाधिकारी सदर ने कहा कि चूंकि मुख्यमंत्री विवेकाधीन आर्थिक सहायता का सम्बन्ध समाज के गरीब, मजलूम व विपन्न वर्ग से होता है ,इस स्थिति में देरी करना उनके लिए काफी घातक सिद्ध हो सकता है। उपजिलाधिकारी ने कहा कि यदि कोई व्यक्ति इलाज हेतु मुख्यमंत्री सहायता चाहता है तो उसमें एक या दो दिन की भी देरी उसके लिए जानलेवा सिद्ध हो सकती है। इसलिए मानवीय संवेदना को ध्यान में रखकर सम्बन्धित कर्मचारी गंभीरतापूर्वक इस मामले में अपने कर्तव्यों का निर्वहन करें। उपजिलाधिकारी ने कहा कि सहायता की आवश्यकता केवल गरीब वर्ग को होती है। सम्पन्न वर्ग कभी भी किसी के सामने हाथ नही फैलाता। सम्पन्न वर्ग के लोगो को बैंको में भी आसानी से ऋण मिल जाता है। इसलिए गरीब व विपन्नो को मिलने वाली सहायता में देरी कर
उनके साथ अन्याय करना उचित नही है। इस मामले में सभी को तेजी दिखाने की
आवश्यकता है।


      बताते चले कि जब कि उपजिलाधिकारी सदर शिव प्रताप शुक्ल जब से तहसील सदर में तैनात हुए है तभी से वह सदर तहसील को माडल तहसील बनाने के लिए
प्रयासरत है। उपजिलाधिकारी सदर श्री शुक्ल का स्वभाव काफी नम्र और शौम्य है। फरियादी उनसे संतुष्ट होकर ही वापस आता है।


       @ तारकेश्वर टाईम्स की खबर 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रमंति इति राम: , राम जीवन का मंत्र

अतीक का बेटा असद और शूटर गुलाम पुलिस इनकाउंटर में ढेर : दोनों पर था 5 - 5 लाख ईनाम

अतीक अहमद और असरफ की गोली मारकर हत्या : तीन गिरफ्तार