क्या मैनेजमेंट और गुटबाजी की ही राजनीति चलेगी @ प्रेस क्लब Bst.

बस्ती  ( उ0प्र0 ) ।
    व्हाट्सएप पर एक जोक कभी-कभी आता है कि एक मियां बीबी एक दूसरे को चप्पल फेंककर मार रहे थे , कोई मित्र आए देखे और पूछे तो पता चला ऐसे ही हंसी खुशी जिन्दगी चल रही है । इसी तरह का दृश्य प्रेस क्लब बस्ती के चुनाव में पत्रकार एकता के रूप में देखने को मिला । हालांकि यह बात खुलेआम रही कि प्रेस क्लब बस्ती कुछ लोगों के हाथों की कठपुतली मात्र है, यह चुनाव वगैरह सब दिखावा है । जब बार बार यह साक्षात दिखाई पड़ने लगे, और बेशर्मों को शर्म न आए तो क्या कहा जाए । 
प्रेस क्लब बस्ती की स्थापना से लेकर आज तक कैसे कैसे और क्या क्या हो रहा है, यह किसी से छिपा नहीं है । यदि ऐसा ही था तो सार्वजनिक संस्था बनाने की क्या आवश्यकता थी । प्रेस क्लब में बहुत ही जटिल और तकनीकी प्रक्रिया से फिल्टर करने के पश्चात ही कोई सदस्य बन सकता है, या यों कहें कि अग्नि परीक्षा के दौर से गुजरना पड़ेगा । वैसे ये लोग इतने उदार हैं और इनकी नजरें इतनी पारखी हैं कि विश्वसनीय वोट के गुण नजर आते ही उसके अन्दर पात्रता के सभी गुण आ जाते हैं । ऐसा हमें नंगी आँखों से देखने को मिल सकता है । 
कुछ भी हो यदि सार्वजनिक तौर पर पत्रकारों की संस्था है तो स्वस्थ भावना से सभी पत्रकारों को कम से कम सदस्य तो होना ही चाहिए । राजनीति उसके बाद की चीज है । 
    चुनाव हुए बहुत अच्छा लगा, सभी पत्रकार साथियों ने बढ़ चढ़ कर अपने अपने दायित्वों का भरपूर निर्वहन किया है । सभी लोग बधाई के पात्र हैं । लेकिन क्या इसी भावना के अन्तर्गत खुले मन से प्रेस क्लब का सदस्य नहीं बनाया जा सकता है । यदि ऐसा नहीं किया जाता तो प्रेस क्लब को मुट्ठी भर लोगों का जेबी संगठन कहा जाना गलत न होगा । चुनाव हों या न हों सभी को सदस्य जरूर बनाना चाहिए । उसमें करना क्या है फिर बाईलाज बदल दीजिएगा  , चुनाव का सिस्टम बन्द कर दीजिये । 
कहने का मतलब ये है कि पत्रकार को पत्रकार ही रहने दीजिये, वर्गीकरण न करिये, न ही किसी को इसका अधिकार है - हाँ  - प्रेस क्लब का सदस्य बनाना या न बनाना आपके हाथ में जरूर है । 
यदि किसी को हमारी बात से आपत्ति हो तो वह खुलेमन से आपत्ति कर सकता है और मैं श्रीमान जी का शंका समाधान करने का पूरा प्रयास करूंगा ।
                       जय हिन्द 
                आमोद उपाध्याय


सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए मो0  - 9450557628


देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएँ लाॅग इन करें tarkeshwartimes.page 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रमंति इति राम: , राम जीवन का मंत्र

अतीक का बेटा असद और शूटर गुलाम पुलिस इनकाउंटर में ढेर : दोनों पर था 5 - 5 लाख ईनाम

अतीक अहमद और असरफ की गोली मारकर हत्या : तीन गिरफ्तार