बिस्मिल और अशफाक हिन्दू मुस्लिम एकता की अनुपम मिसाल: 119वीं जयन्ती पर अयोध्या जेल में 119 दीप जले

अशफाकउल्लाह खान और बिस्मिल स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में निर्विवाद रूप से हिन्दू मुस्लिम एकता की अनुपम मिसाल है - बृजेश कुमार वरिष्ठ जेल अधीक्षक अयोध्या । 



जयन्ती की पूर्व संध्या पर आयोजित हुए कार्यक्रम में मुख्य वक्ता अनिरूद्ध मिश्र ने कहा कि काकोरी काण्ड में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले उर्दू भाषा के बेहतरीन शायर अशफ़ाक़ उल्ला ख़ाँ वारसी हसरतअपने पूरे जीवन काल में हमेशा हिन्दू-मुस्लिम एकता के पक्षधर रहे। 


शहीद अशफाक की कुछ हसरतें - 
कुछ आरजू नहीं है, है आरजू तो यह ,
रख दे कोई ज़रा सी खाके वतन कफ़न में ।



कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए गुरुकृपा संस्थान के संस्थापक अध्यक्ष व सामाजिक कार्यकर्ता बृजेश राम त्रिपाठी ने कहा कि - बाल्यावस्था में उनकी रुचि तैराकी, घुड़सवारी, निशानेबाजी में अधिक थी। उन्हें कविताएं लिखने का काफी शौक था, जिसमें वे अपना उपनाम हसरत लिखा करते थे ।


                   ( ऋषभ शुक्ल )
अयोध्या ( उ0प्र0 )। पंडित राम प्रसाद बिस्मिल बलिदानी मेला व खेल महोत्सव आयोजन समिति गोरखपुर उत्तर प्रदेश एवं अखिल भारतीय क्रांतिकारी संघर्ष मोर्चा के संयुक्त तत्वावधान में क्रांतिकारी अशफ़ाक के बलिदान स्थली फैज़ाबाद जेल पर दीपोत्सव व माल्यार्पण कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए बतौर मुख्य अतिथि वरिष्ठ जेल अधीक्षक फैज़ाबाद बृजेश कुमार ने कहा कि भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम के इतिहास में  बिस्मिल और अशफ़ाक़ की भूमिका निर्विवाद रूप से हिन्दू-मुस्लिम एकता का अनुपम मिसाल है। अंग्रजो की गुलामी से मुक्ति हेतु देश में चल रहे आंदोलनों और क्रांतिकारी घटनाओं से प्रभावित अशफाक के मन में भी क्रांतिकारी भाव जागे और उसी समय मैनपुरी षड्यंत्र के मामले में शामिल रामप्रसाद बिस्मिल से मुलाकात हुई और वे भी क्रांति की दुनिया में शामिल हो गए। इसके बाद वे ऐतिहासिक काकोरी कांड में सहभागी रहे और पुलिस के हाथ भी नहीं आए। अयोध्या जेल में अमर शहीद अशफाकउल्लाह खान की जयन्ती की पूर्व संध्या पर कार्यक्रम आयोजित किए गए ।


अशफाक उल्ला खान के 119 वीं जयंती के अवसर पर 119 दीपों की ज्योति प्रकाश उत्सव को संबोधित करते हुए मुख्य वक्ता प्रेरक अनिरूद्ध मिश्र ने कहा कि फैज़ाबाद जेल परिसर में कहा कि जंग-ए-आज़ादी के प्रमुख क्रान्तिकारीयों में शुमार , काकोरी काण्ड में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले उर्दू भाषा के बेहतरीन शायर अशफ़ाक़ उल्ला ख़ाँ वारसी हसरतअपने पूरे जीवन काल में हमेशा हिन्दू-मुस्लिम एकता के पक्षधर रहे। 



अशफाक उल्ला खां को भारत के प्रसिद्ध अमर शहीद क्रांतिकारियों में से एक माना जाता है। वे उन वीरों में से एक थे, जिन्होंने देश की आजादी के लिए हंसते-हंसते अपने प्राणों का बलिदान दे दिया। उनके पकड़े जाने के बाद जेल में उन्हें कई तरह की यातनाएं दी गई और सरकारी गवाह बनाने की भी कोशिश की गई। परंतु अशफाक ने इस प्रस्ताव को कभी मंजूर नहीं किया। 
आखि‍रकार 19 दिसम्बर, 1927 को अशफाक उल्ला खां को फैजाबाद जेल में फांसी दे दी गई। इस घटना ने आजादी की लड़ाई में हिन्दू-मुस्लिम एकता को और भी अधिक मजबूत कर दिया।
शहीद अशफाक की कुछ हसरतें - 
कुछ आरजू नहीं है, है आरजू तो यह ,
रख दे कोई ज़रा सी खाके वतन कफ़न में ।
ए पुख्तकार उल्फत होशियार, डिग ना जाना,
मराज आशकां है इस दार और रसन में ।
न कोई इंग्लिश है न कोई जर्मन,
न  कोई रशियन है न कोई तुर्की , 
मिटाने वाले हैं अपने हिंदी,
जो आज हमको मिटा रहे हैं ।


विशिष्ट अतिथि क्रांतिकारी संघर्ष मोर्चा के प्रदेश प्रमुख उमेश राय उत्रावल प्रबंधक इंटर कालेज संतकबीरनगर
ने अपने उदबोधन में कहा कि भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के महान यौद्धा एवं भारत के सच्चे सपूत अशफाकउल्ला खान ने शहीद राम प्रसाद बिस्मिल के साथ अपना जीवन माँ भारती को समर्पित कर दिया था । दोनों अच्छे मित्र और उर्दू शायर भी थे, जहां राम प्रसाद का उपनाम (तखल्लुस) 'बिस्मिल' था, वहीँ अशफाक 'वारसी'और बाद में 'हसरत' के उपनाम से लिखते थे। भारतीय आज़ादी में इन दोनों का त्याग और बलिदान वर्तमान की युवा पीढ़ियों के लिए धार्मिक एकता और सांप्रदायिक सौहार्द्र की अनुपम मिसाल है ! दोनों ही क्रांतिकारियों को एक ही तारीख,एक ही दिन और समय पर फांसी दी गई, केवल जेल अलग अलग थी अशफाक को फैजाबाद और बिस्मिल को गोरखपुर में फांसी दी गयी थी ।



कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए गुरुकृपा संस्थान के संस्थापक अध्यक्ष व सामाजिक कार्यकर्ता बृजेश राम त्रिपाठी ने अशफाक के जीवन के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि पठान परिवार में 22 अक्टूबर 1900 को जन्मे उत्तरप्रदेश के शाहजहांपुर स्थित शहीदगढ़ निवासी पिता मोहम्मद शफीक उल्ला खान और मां मजहूरुन्निशा बेगम के सन्तान अशफाक का मन पढ़ाई में नहीं लगा बाल्यावस्था में उनकी रुचि तैराकी, घुड़सवारी, निशानेबाजी में अधिक थी। उन्हें कविताएं लिखने का काफी शौक था, जिसमें वे अपना उपनाम हसरत लिखा करते थे।



अशफाक उल्ला खान के चित्र पर अतिथियों द्वारा  माल्यार्पण किया गया । कार्यक्रम के प्रारंभ सामूहिक वंदे मातरम एवं समापन राष्ट्रगान से किया गया।
दीपांजलि व माल्यार्पण कार्यक्रम में कुशीनगर से प्रतिनिधि वकील सिंह, गोरखपुर से प्रतिनिधि अवनीश मणि त्रिपाठी, संतकबीरनगर के प्रतिनिधि उमेश राय और महेश चंद्र दूबे, बस्ती हरैया से प्रतिनिधि प्रेरक अनिरुद्ध मिश्रा, गोंडा से प्रतिनिधि राकेश वर्मा, रवि तिवारी अयोध्या धाम, अखिलेश पांडेय,  सहित अनेकों की भागीदारी रही।


            भारत माता की जय 


देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएँ लाॅग इन करें  : -


tarkeshwartimes.page 


सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए मो0 न0 : - 9450557628


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रमंति इति राम: , राम जीवन का मंत्र

अतीक का बेटा असद और शूटर गुलाम पुलिस इनकाउंटर में ढेर : दोनों पर था 5 - 5 लाख ईनाम

अतीक अहमद और असरफ की गोली मारकर हत्या : तीन गिरफ्तार