SKN तीसरी आंख की निगरानी में लगेंगे कोरोना के टीके

       (रीतेश श्रीवास्तव) 

वीडियो कांफ्रेसिंग के दौरान महानिदेशक टीकाकरण ने दिए विविध दिशा-निर्देश, पारदर्शिता से लगेंगे टीके , 5286 सरकारी स्‍वास्‍थ्‍य कार्यकर्ताओं का पहले होगा टीकाकरण

संतकबीरनगर (उ.प्र.) । कोरोना का टीकाकरण पूरी पारदर्शिता के साथ किया जाएगा। इसके लिए टीकाकरण स्‍थल पर वीडियो व स्टिल कैमरे लगाए जाएंगे। टीकाकरण में सबसे पहले स्‍वास्‍थ्‍य कार्यकर्ताओं तथा अग्रिम पंक्ति के स्‍वास्‍थ्‍य कार्यकर्ताओं को सूची के अनुसार कोरोना के टीके से आच्‍छादित किया जाएगा। टीका लगाने के लिए सरकार द्वारा निर्धारित दिशा-निर्देशों का पूरी तरह से अनुपालन करना होगा।   

कोरोना टीकाकरण के संबंध में आयोजित वीडियो कांफ्रेसिंग के पश्‍चात सीएमओ डॉ. हरगोविन्‍द सिंह ने यह जानकारी दी। उन्‍होने बताया कि कोरोना टीकाकरण के संबंध में लगातार दो दिन वीडियो कांफ्रेसिंग का आयोजन हुआ। इस दौरान अपर मुख्‍य सचिव के साथ ही साथ महानिदेशक टीकाकरण तथा राज्‍यस्‍तरीय अधिकारियों ने यह दिशा-निर्देश दिया है कि प्रथम चरण में स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों का टीकाकरण होगा। इस दौरान पहले जिले के 5286 सरकारी व 1205 प्राइवेट अस्‍पताल के कर्मियों का टीकाकरण किया जाएगा। इस दौरान पुलिस विभाग की सेवाएं भी आवश्‍यकतानुसार ली जाएंगी। इसके साथ ही कई अन्‍य दिशा-निर्देश भी दिए गए।   
इस वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान सीएमओ डॉ. हरगोविन्‍द सिंह, एसीएमओ डॉ. मोहन झा, कोरोना रैपिड रिस्‍पांस टीम के प्रभारी डॉ. एके सिन्‍हा, डीपीएम विनीत श्रीवास्‍तव, राष्‍ट्रीय किशोर स्‍वास्‍थ्‍य कार्यक्रम के समन्‍वयक दीनदयाल वर्मा , सेमरियांवा सामुदायिक स्‍वास्‍थ्‍य केन्‍द्र के प्रभारी डॉ. जगदीश और यूनीसेफ के प्रतिनिधि बेलाल अहमद व अन्‍य लोग उपस्थित रहे। 

टीकाकरण के बाद 30 मिनट तक होगी निगरानी

कोरोना रैपिड रिस्‍पांस टीम के प्रभारी डॉ. एके सिन्‍हा ने बताया कि कोविड टीकाकरण जिला अस्‍पताल और सीएचसी-पीएचसी पर ही होगा। टीकाकरण के लिए कुल तीन कमरे बनेंगे, एक वेटिंग रुम होगा, एक वैक्‍सीनेशन तथा एक रेस्‍ट रुम होगा जिसमें टीका लगने के बाद 30 मिनट तक आराम करना होगा। टीकाकरण स्‍थल पर गार्ड समेत 4 कर्मचारी होंगे। गार्ड बाहर डाक्यूमेंट्स एकत्रित कर लाइन लगवाएगा। पहले रूम का कर्मचारी डाक्यूमेंट्स वैरीफाई करेगा। टीका दूसरे कमरे का कर्मचारी लगाएगा। जबकि तीसरे कमरे का कर्मचारी आधे घंटे तक मानिटीरिंग करेगा।    

टीकाकरण में ओपन वायल पालिसी लागू नहीं होगी। अर्थात जो टीका खुल जाएगा उसे फिर रखा नहीं जाएगा। वहीं सभी कर्मचारियों के पास एडवर्स इवेंट फॉलोइंग इम्युनाइजेशन (एईएफआई) किट भी मौजूद रहेगी। पहले से पंजीकृत लोगों का ही टीकाकरण होगा और टीकाकरण स्थल  पर पंजीकरण कराने की सुविधा नहीं होगी। ‘‘कोविड-19 टीका संचालन दिशा-निर्देश’’ के मुताबिक वॉयल को सूरज की रोशनी से बचाकर रखने के लिए व्यवस्था की जाएगी। टीकाकरण के लिए व्यक्ति के पहुंचने पर टीके की वॉयल को खोलना होगा। सत्र के बाद आईस पैक के साथ बिना इस्तेमाल वाले सभी टीके को कोल्ड चेन स्थल पर वापस भेजना होगा। सबसे पहले स्वास्थ्यकर्मियों, अग्रिम मोर्चे के कर्मियों और 50 साल से अधिक्र उम्र के लोगों का टीकाकरण होगा। इसके बाद गंभीर रोग से ग्रस्त, 50 से कम उम्र के लोगों और महामारी की स्थिति और टीके की उपलब्धता के आधार पर अंत में बाकी लोगों का टीकाकरण हो सकेगा।

         ➖    ➖    ➖    ➖    ➖

देश दुनिया की खबरों के लिए गूगल पर जाएं

लॉग इन करें : - tarkeshwartimes.page

सभी जिला व तहसील स्तर पर संवाददाता चाहिए

मो. न. : - 9450557628

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

लखनऊ में सैकड़ों अरब के कैलिफोर्नियम सहित 8 गिरफ्तार, 3 बस्ती के

समायोजन न हुआ तो विधानसभा पर सामूहिक आत्महत्या करेंगे कोरोना योद्धा

बस्ती : ब्लॉक रोड पर मामूली विवाद में मारपीट, युवक की मौत